दोपहर मे बच्चों को सुलाने से होता है खतरा

बच्चों को आराम करवाने के लिए अक्सर मां बच्चों को दोपहर के वक्त सुला देती है। अक्सर बच्चे दोपहर के वक्त सो जाते है। मां अपना काम निपटाने के लिए भी बच्चे को दोपहर मे सुला देती है। हालांकि इससे बच्चे को आराम भी मिलता है। 

अधिकतर लोगों का मानना है कि बच्चा जितना ज्यादा सोएगा उसे उतना ही आराम मिलेगा और स्वस्थ रहेगा, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। शोधकर्ताओं का कहना है कि दो साल से अधिक उम्र के बच्चे को दोपहर में सुलाना खतरनाक साबित हो सकता है। 

शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर बच्चा दिन मे सो जाता है तो इसका प्रभाव रात की नींद पर पढ़ता है। दिन मे सो जाने की वजह से रात मे नींद नहीं आती या देर से नींद आती है। कभी-कभी रात की नींद अच्छे से नहीं हो पाती है। उन्होने कहा है कि बच्चों के लिए रात की नींद बहुत जरूरी होती है। 

रात की नींद मे उनका विकास जुड़ा हुआ होता है, लेकिन दोपहर में सो जाने से उसकी रात की नींद तो खराब हो जाती है। जिनसे उनमे  अनियमितता आ जाती है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -