कर्नाटक सरकार का बड़ा फैसला, हर हाल में होना पड़ेगा क्वारंटाइन

भारत में बीते कुछ महीनों से जारी कोरोना महामारी के बीच कर्नाटक सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के बताया कि अन्य राज्यों से कर्नाटक लौटने वाले लोगों को संस्थागत संगरोध में रहना होगा, भले ही उनमें कोरोना वायरस के लक्षण ना हों.

पाक आतंकी संगठनों की हालत हुई खराब, इस ऑपरेशन का सता रहा डर

इस मामले को लेकर राज्य के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण सेवा द्वारा जारी एक आदेश में कहा गया है, 'किसी भी राज्य से कर्नाटक लौटने वाले सभी व्यक्तियों को संस्थागत संगरोध में रखा जाएगा.'साथ ही, इसमें आगे कहा गया है कि गोवा से आने का दावा करने वाले व्यक्तियों को जिला उपायुक्त वेरिफाइ करेंगे और पर्याप्त क्षमता उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में, उन्हें 14 दिनों की अवधि के लिए घर के संगरोध में रखा जा सकता है. डिप्टी कमिश्नर / स्पेशल कमिश्नर, बीबीएमपी उन होटलों के लिए दरों को तय करेगा जहां बाहर से आने वाले लोगो दैनिक भुगतान के आधार पर रहेंगे.

देशभर में जारी है कोरोना का कहर, संक्रमितों की संख्या हुई 70 हजार से अधिक

आपकी जानकारी के लिए बता दे ​कि देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3,604 नए मामले सामने आए हैं. इस दौरान कोरोना वायरस से 87 लोगों की मौत हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 70,756 हो गई है. इसमें से 40,008 ऐक्टिव केस हैं, जबकि अब तक 22,454 लोग ठीक भी हो चुके हैं. देश में अब तक जानलेवा वायरस से 2,293 लोगों की जान जा चुकी है.

मात्र 20 दिन की बच्ची ने जीती कोरोना से जिंदगी की जंग

यूपी में बढ़ रही कोरोना की मार, फिर नए मामले आए सामने

मरीजों की सेवा में जुटी हुई है नौ माह की गर्भवती महिला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -