अक्टूबर में खुदरा महंगाई 4.21 फीसदी रहने से मिली राहत

अक्टूबर में खुदरा महंगाई 4.21 फीसदी रहने से मिली राहत

नई दिल्ली : अक्टूबर में महंगाई दर घटकर 4.21 फीसदी के स्तर पर रहने से उपभोक्ता महंगाई दर में कमी आई है. इससे आम उपभोक्ता को राहत मिली है. बता दें कि सितंबर माह में यह 4.31 फीसदी पर रही थी. उल्लेखनीय है कि आज सुबह थोक महंगाई दर के आंकड़े आए उसमें थोक महंगाई दर में गिरावट देखने को मिली है. अक्टूबर महीने में थोक महंगाई दर (डब्ल्यूपीआई) घटकर 3.39 फीसदी पर आ गई है.

सितंबर माह में थोक महंगाई दर घटकर 3.57 फीसदी रही थी. इसी तरह खाने-पीने की चीजों की महंगाई दर भी घटी है. अक्टूबर महीने में खाद्य महंगाई दर 7 महीने के निचले स्तर पर आ गई है. यदि महीने दर महीने के आधार पर देखें तो अक्टूबर में खाद्य महंगाई दर 5.75 फीसदी से घटकर 4.34 फीसदी रही.

इस कारण अक्टूबर माह में प्राथमिक वस्तुओं, सब्जियों और दालों की महंगाई दरों में कमी आई. थोक महंगाई के बाद अब विशेषज्ञ खुदरा महंगाई में भी आगे गिरावट की उम्मीद कर रहे हैं. बीते महीने आए आंकड़ों के अनुसार देश में खुदरा महंगाई दर 13 महीने के निचले स्तर पर चल रही है. सब्जी, दलहनों और दूध तथा अंडों के सस्ता होने से खुदरा मूल्यों पर आधारित मुद्रास्फीति सितंबर में घटकर 4.31 प्रतिशत पर आ गई थी.

महंगाई भत्ता बढ़कर हुआ 119 फीसदी