खुदरा मुद्रास्फीति निकली 5 फीसदी के ऊपर

नई दिल्ली : देश की अर्थव्यवस्था में जहाँ एक तरफ मजबूत रुख देखने को मिल रहा है तो वहीँ यह बात भी सामने आई है कि देश के औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर को मार्च महीने के दौरान 0.1 फीसदी पर पहुँचते हुए देखा गया है. जबकि साथ ही यह भी सुनने में आ रहा है कि अप्रैल माह के दौरान खुदरा मुद्रास्फीति 5 फीसदी के ऊपर 5.39 फीसदी पर पहुँच गई है.

इसको लेकर यह कहा जा रहा है कि रिज़र्व बैंक के द्वारा ब्याज दरों को कम किए जाने की उम्मीदें भी खत्म हो सकती है. बताया जा रहा है कि विनिर्माण और खनन क्षेत्र का प्रदर्शन कमजोर रहा है जबकि साथ ही यह भी देखने को मिला है कि पूंजीगत सामानों के उत्पादन में भी गिरावट आई है. और इस कारण ही औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर भी कमजोर हुई है.

जिसके चलते खुदरा मुद्रास्फीति में मजबूती आई है. बता दे कि इसके पूर्व मार्च महीने के दौरान खुदरा मुद्रास्फीति को 4.83 फीसदी पर देखा गया था. जिसे बीते 6 महीनों में सबसे कमजोर स्तर भी बताया गया था. इस मामले में अपना बयान पेश करते हुए आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास का कहना है कि हमें आगे इस बारे में विश्लेषण किये जाने की जरूरत है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -