आज एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में प्रतिरोध दिवस

May 01 2018 09:45 AM
आज एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में प्रतिरोध दिवस

एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ 1 मई को देश के कई दलित संगठन प्रतिरोध दिवस मनाने जा रहे हैं. अभी हाल में सुप्रीम कोर्ट ने दलित कानून (एससी/एसटी एक्ट) पर एक अहम फैसला सुनाते हुए मनमानी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी.  दलित मूवमेंट फॉर जस्टिस (NDMJ) के महासचिव डॉक्टर वीए रमेन नाथन ने विरोध प्रदर्शन को शांतिपूर्ण आयोजित करने की अपील की है. नाथन के मुताबिक, दलितों की आवाज बुलंद करने के लिए बने नेशनल कोअलिशन के बैनर तले 1 मई को सभी जिला और प्रदेश मुख्यालयों में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का फैसला किया है.

नाथन ने कहा कि 1 मई को अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस भी मनाया जाता है. इसीलिए इस दिन को चुना गया है. नाथन की मानें, तो 'भारत के मजदूर वर्ग के ज्यादातर लोग अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से आते हैं. हमें दलितों, आदिवासियों, औरतों और बच्चों के मानवाधिकारों के लिए बहुत कुछ करना है. वे अब भी हिंसा और भेदभाव झेल रहे हैं.'


नाथन ने लोगों से अपील की कि दलित कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ एक मई को राष्ट्रीय प्रतिरोध दिवस के रूप में मनाएं. उन्होंने सामाजिक कार्यकर्ताओं, कामगार समूहों, मजदूर संगठनों, मानवाधिकार के लिए काम करने वाली संस्थाओं, महिला संस्थाओं से सहयोग मांगा है. उन्होंने कहा कि इस दिन देशभर में शांतिपूर्ण प्रदर्शन किए जाएंगे. 2 अप्रैल को मुद्दे पर भारत बंद के दौरान पूरा देश हिंसा की आग में पहले ही जल चूका है. जिसमे कुल एक दर्जन से ज्यादा जाने गई और मरने वालों में सबसे ज्यादा मध्यप्रदेश के थे.

सीने पर लिख दिया SC/ST

जांच-प्रक्रिया अपनाए बिना सीधे अरेस्ट नहीं किया जाये- मप्र हाई कोर्ट

यूपी: 17 अतिपिछड़ी जातियों को एससी में शामिल करने का फैसला