अपनी बात पर अड़े भागवत, कहा : आर्थिक आधार पर ही हो आरक्षण

कुल्लू ​: एक बार फिर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक डाॅ. मोहन भागवत ने आरक्षण के मसले पर अपनी बात सामने रखी है। जिसके तहत उन्होंने कहा है कि आरक्षण के मामले में उन्होंने जो भी कहा है वह गलत नहीं है। आरक्षण जाति आधारित नहीं बल्कि आर्थिक आधार पर मिलना चाहिए। इस दौरान कहा है कि यदि किसी को परेशानी है तो वह होती रहे लेकिन उनका कहना सही है। मिली जानकारी के अनुसार बिहार चुनाव में विरोधी भागवत के बयान को राजनीतिक मसला बनाने में लगे हैं लेकिन उन्होंने जो भी कहा है वह परिस्थितियों के चलते कहा है।

डाॅ. भीमराव आंबेडकर का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा था  कि 10 वर्षों में आरक्षण की समीक्षा की जाना जरूरी है। मगर यदि ऐसा नहीं होता है तो आरक्षण देना सरकार का काम है। उन्होंने कहा कि न तो सरकार को हम चला रहे हैं और न ही हम नीतियां बना रहे हैं।

आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में आयोजित की गई प्रतिनिधियों और पुजारियों की संगोष्ठी में उपस्थितों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान लगभग 200 प्रतिनिधियों द्वारा इस मसले पर भागीदारी की गई। कुल्लू सदर के विधायक व कुल्लू जिला देव समाज की इस मामले में महत्वपूर्ण भूमिका है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -