इस कारण विरोधियों ने भी दिया सवर्ण आरक्षण पर सरकार का साथ

Jan 09 2019 09:00 PM
इस कारण विरोधियों ने भी दिया सवर्ण आरक्षण पर सरकार का साथ

नई दिल्ली : सामान्य वर्ग को दस प्रतिशत आरक्षण दिए जाने के फैसले को देश का ज्यादातर पार्टियों ने समर्थन दिया है। इसमे सबसे अहम बात ये है कि हमेशा भाजपा के खिलाफ रहने वाली ज्यादातर पार्टियां इस बिल को समर्थन कर रही हैं। गौरतलब है कांग्रेस ने भी इस बिल को समर्थन दिया है, परन्तु कांग्रेस ने कहा कि जिस हड़बड़ी में बिल को लाया गया है, वो सरकार की मंशा पर सवाल खड़े करता है, इसलिए इसे जेपीसी में भेजा जाए।

सोलापुर को पीएम मोदी ने दी 3,168 करोड़ की सौगात, कांग्रेस को बताया कामों को लटकाने वाली पार्टी

इस दलों ने दिया साथ 

जानकारी के लिए बता दें की बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी और तृणमूल कांग्रेस भी इस बिल के पक्ष में हैं। वही राष्ट्रीय जनता दल और आम आदमी पार्टी ने इस बिल का विरोध किया है। राजद ने जहां इस तरह के किसी बिल से पहले जातिगत जनगणना की बात की है तो आप ने कहा है कि भाजपा एससी एसटी और दूसरी पिछड़ी जातियों का आरक्षण खत्म करना चाहती है।

मुसलमानों को आरक्षण दिए जाने पर आजम खान ने कही ऐसी बात

यह भी है खुश 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एनडीए में सहयोगी रामविलास पासवान और रामदास अठावले जैसे नेताओं ने बिल को समर्थन दिया है। वहीं कुछ पार्टियों ने कहा है कि मुसलमानों को भी नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। खासकर टीआरएस ने इस बात को कहा है। विपक्षी पार्टियां इसे दूसरे मुद्दों से ध्यान हटाने की चाल कह रही हैं लेकिन भाजपा इससे खुश दिख रही है।

कर्जमाफी घोटाले की जांच के लिए सरकार ने गठित की जांच समिति

ईएफएल कप : सेमीफाइनल से पहले टोटेनहम हॉटस्पर ने चेल्सी को दी मात

मेलबर्न : भारतीय दूतावास सहित अन्य राजनयिक मिशन में पाए गए संदिग्ध पैकेट