इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए रेनो-निसान आई साथ-साथ

भारत में भी जल्द ही इलेक्ट्रक कारें सड़कों पर सरपट भागती नजर आएंगी। रेनोल्ट औऱ निसान ने इलेक्ट्रिक कारों के निर्माण के लिए चीन की डांगफेंग मोटर के साथ हाथ मिलाया है। ईजीटी न्यू एनर्जी ऑटोमेटिव कंपनी के रुप में नामित किया गया है।

ईजीटी ऑटोमेटिव कंपनी कॉम्पैक्ट इलेक्ट्रिक एसयूवी का निर्माण करेगी। उम्मीद है कि 2019 तक उत्पादन शुरु हो जाएगी। गौरतलब है कि डांगटेंग पहले से ही रेनोल्ट और निसान के साथ मिलकर पारंपरिक वाहनों का उत्पादन करती है।

दुनिया का सबसे बड़ा ऑटोमोबाइल कहा जाने वाला चीन का लक्ष्य है कि 2025 तक इलेक्ट्रिक वाहनों और प्लग इन संकर अपने वाहनों की बिक्री में कम से कम वन-फीफ्थ हिस्सा इसके खाते में डालें। चीन के नियमों ने इलेक्ट्रिक वाहनों के मामले में कई कंपनियों की मानसिकता को वाकई में बदली है, जो कभी इसमें इन्वेस्ट करने से झिझकते थे।

इससे पहले फोर्ड ने भी कहा था कि वो जोटे ऑटोमोबाइल कंपनी के साथ एख संयुक्त उद्दम की तलाश कर रहा है। चीन की मांग को देखते हुए टोयोटा भी इलेक्ट्रिक वाहनों पर निेवश के लिए तैयार है। रेनोल्ट-निसान अलायंस के अध्यक्ष कार्लोस घोसन ने इन योजनाों के बारे में विस्तार से चर्चा की।

इस कदम को कंपेटेटिव बताते हुए उन्होने कहा कि यह हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है। ये भारत के लिए क्विड क्रॉसओवर हैचबैक को भी विकसित करेगी। इलेक्ट्रिक वाहनों को भविष्य के वाहन के रुप में देखा जा रहा है। इससे प्रदूषण पर लगाम के साथ-साथ इंधन की बचत भी होगी।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -