गुप्त नवरात्री में धन प्राप्ति के लिए करें ये प्रयोग, कभी नहीं होगी पैसों की कमी

आमतौर पर लोग प्रति वर्ष आने वाले मात्र दो नवरात्रों चैत्र या वासंतिक नवरात्र और आश्विन या शारदीय नवरात्र के बारे में जानते हैं। किन्तु इसके अतिरिक्त भी दो अन्य नवरात्र होते हैं, जिनमे देवी के भक्त अपनी विशेष कामनाओं की सिद्धि के लिए उनकी साधना करते हैं। हालांकि बहुत कम लोग ही इन नवरात्रों के बारे में जानते हैं, इसी कारण इन्हें गुप्त नवरात्र कहा जाता है। प्रतिवर्ष आने वाले यह चारों नवरात्र ऋतु परिवर्तन के वक़्त मनाए जाते हैं। 

इस बार आषाढ़ माह की गुप्त नवरात्रि 03 जुलाई से आरम्भ होकर 10 जुलाई तक जारी रहेगी। इस गुप्त नवरात्रि में किसी भी किस्म का तांत्रिक प्रयोग फलदाई होता है। ख़ास कर अगर धन प्राप्ति के प्रयोग किए जाते हैं तो वो अवश्य सफल होते हैं। तो आइए बताते हैं ऐसे ही कुछ प्रयोगों के बारे में।

1- अगर नौकरी में धन न मिल पा रहा हो- 
- गुप्त नवरात्रि में लाल आसन पर बैठकर मां की उपासना करें। 
-  लाल कपड़े में रखकर दो लौंग पूरे नौ दिन तक मां को चढ़ाएं। 
- प्रति दिन कपूर से उनकी आरती करें। 
- नवरात्रि समाप्त हो जाने पर सारी लौंग लाल कपड़े में बांधकर सुरक्षित रख लें। 
- इससे आपकी धन की समस्याएं दूर हो जाएंगी। 

2- अगर कारोबार में धन नहीं आ रहा हो- 
- गुप्त नवरात्रि में हर शाम मां लक्ष्मी की पूजा करें। 
- मां लक्ष्मी के सामने घी का दीपक प्रज्वलित करें। 
- उनके सामने श्रीसूक्तम का पाठ करें। 
- गुप्त नवरात्रि के किसी भी दिन कच्चा सूत हल्दी से रंगकर पीला कर लें। 
- इसे मां लक्ष्मी को समर्पित करके अपने कारोबार के गल्ले में रख लें। 
- धन का आगमन शुरू हो जाएगा। 

3- हर तरह के धन लाभ के लिए-
- गुप्त नवरात्रि में प्रातः और सायंकाल दोनों समय मां दुर्गा की उपासना करें। 
- प्रातः उन्हें सफ़ेद फूल अर्पित करें और शाम को लाल फूल अर्पित करें। 
- दोनों समय निम्नलिखित मंत्र का 108 बार जप करें। 
- मंत्र है - ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे ज्वल हं सं लं क्षं फट्‍ स्वाहा ॥
- नवमी के दिन किसी निर्धन बालिका को वस्त्र और उपहार देकर आशीर्वाद ग्रहण करें। 
- इससे धन प्राप्ति के रास्ते खुल जाएंगे।

रावण से सीख सकते हैं आप यह बातें, नहीं मिलेगा कोई संकट

अगर आप रखते हैं बृहस्पतिवार का व्रत, जरूर पढ़िए यह कथा

अगर आपने ले लिया इन 5 स्त्रियों का नाम तो हो जाएगा आपका कल्याण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -