लाल किले की सुरक्षा के लिए लगाए गए 1000 हाई डेफिनेशन वाले CCTV कैमरे

नई दिल्ली : देश के 70वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आतंकी हमले के खतरे को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद किया जा रहा है। लाल किला व उसके आसपास के क्षेत्रों में हाई डेफिनेशन वाले 1000 कैमरे लगाए जा रहे है। 15 अगस्त के दिन सुबह 5 बजे से लेकर 11 बजे तक लाल किले इलाके को नो फ्लाइंग जोन बनाया जा रहा है।

इसके बाद भी अगर इस इलाके से कोई विमान गुजरा तो उसे मार गिराया जाएगा। लगभग 15 हजार जवानों को सुरक्षा में लगाया गया है। पतंगबाजी पर भी रोक लगा दी गई है। इस साल पीएम के आह्वान पर पूरे एक सप्ताह तक देश में आजादी का जश्न मनाया जाएगा। इसके अलावा एक और बात इस बार के जश्न को बढ़ा रही है और वो है स्वतंत्रता के 70 साल पूरे होने का।

ऐसे मौकों पर हमेशा आतंकवादी हमले का खतरा मंडराता है। किसी भी आतंकी हमले से निपटने के लिए इस बार करीब 15 हजार सुरक्षा बलों को लाल किला और इसके आसपास के इलाकों में तैनात किया गया है। कुल पांच सुरक्षा घेरे होंगे जिसमें पहला और सबसे बाहर का सुरक्षा घेरा दिल्ली पुलिस संभालेगी।

बाहरी सुरक्षा में दिल्ली पुलिस के 8000 जवानों को लगाया जाएगा। पहला व दूसरा सुरक्षा घेरा स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप संभालेगा। तीसरे व चौथे घेरे का जिम्मा अर्ध सैनिक बलों को दिया गया है। विमानभेदी गन को भी तैनात किया गया है। 200 से अधिक एनएसजी कमांडो भी तैनात रहेंगे। 80 पैराग्लाइडिंग शूटरों को भी सुरक्षा में लगाया गया है।

लाल किला और इसके आसपास के तीन किलोमीटर तक के इलाके में कुल 2500 हजार सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इनकी फुटेज देखने के लिए एक बड़ा कंट्रोल रूम बनाया गया है। वहां 24 घंटे पुलिसकर्मियों की तैनाती रहेगी।

देश के इस जिले को आज़ादी के 3 साल बाद मिली थी अंग्रेज़ो से आज़ादी

स्वतंत्रता दिवस पर सेल्फी पर रोक !

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -