महाराष्ट्र में मंत्री के वाहन से मिले 91 लाख, हिसाब देने को तैयार

मुंबई : केंद्र सरकार द्वारा 500 रूपए और 1000 रूपए के नोट बंद कर दिए जाने के बाद लोग बैंक्स में कतार लगाए खड़े हैं और नकदी का आहरण करवा रहे हैं, जमा करवा रहे हैं और नोट बदली कर रहे हैं। इसी बीच महाराष्ट्र राज्य में मंत्री के पास ही करीब 91 लाख रूपए की नकदी पकड़े जाने के बाद हड़कंप मच गया है। हालांकि मंत्री का कहना है कि उनके वाहन से जो नकदी बरामद हुई है उसका एक-एक हिसाब उनके पास है।

सहकारिता मंत्री सुभाष देशमुख ने कहा कि उनके पास सारी नकदी का हिसाब है और इसे लेकर उनके पास दस्तावेज उपस्थित हैं। महाराष्ट्र में निकाय चुनाव के पूर्व मंत्री के वाहन से नकदी पकड़े जाने के बाद उनकी मुश्किल बढ़ गई है लेकिन उनका कहना है कि उनके पास इस नकदी को लेकर पर्याप्त जानकारी है और इसे गलत नहीं ठहराया जा सकता है। दरअसल राज्य के कई क्षेत्रों में निकाय चुनाव की तैयारी चल रही है ऐसे में चुनाव आयोग सख्त है और अधिकारियों द्वारा छापामार कार्रवाई की जा रही है।

इसी दौरान देशमुख के लोकमंगल समूह की कार से बड़े पैमाने पर 1000 रूपए और 500 रूपए के नोट जब्त किए गए हैं। इस समूह के कई सहकारी बैंक व चीनी की फैक्ट्रियां चल रही हैं ऐसे में यह कैश स्वाभाविक है इतना ही नहीं वे वेलफेयर के कार्य से जुड़े हुए हैं। हालांकि देशमुख द्वारा कहा गया कि वे किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हैं। ये रूपए एक बैंक से किसी दूसरे बैंक ले जाए जा रहे थे।

गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद से ही राज्य में सख्ती बरती जा रही है और कई लोगों के पास बड़े पैमाने पर नकदी होने की जानकारी सामने आई है। गौरतलब है कि भाजपा के विधायक के भाई के पास कथित तौर पर पुराने नोटों में 6 करोड़ रूपए मिले थे।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -