ब्याज दर कम होने की वजह से रियल एस्टेट में आ सकता है उछाल

ब्याज दर कम होने की वजह से रियल एस्टेट में आ सकता है उछाल

शुक्रवार को भारतीय रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में कटौती की. RBI ने पॉलिसी रेपो रेट को 0.40 फीसद घटा दिया है. इस कटौती से अब रेपो रेट 4 फीसद पर आ गई है. इसके साथ ही, एक महीने में दूसरी बार रिवर्स रेपो दर में भी 40 बीपीएस की कमी आई है और अब यह 3.35% है. RBI के इस कदम का ANAROCK Property Consultants के चेयरमैन अनुज पुरी ने स्वागत किया है. 

मोदी सरकार के राहत पैकेज पर RBI निदेशक ने उठाए सवाल, कही ये बात

अपने बयान में उन्होंने कहा कि रियल एस्टेट सहित सभी क्षेत्रों पर कोरोना का गंभीर प्रभाव पड़ा है. पुरी ने कहा कि आरबीआई की रेपो दर में 40 बीपीएस की कटौती जो पहले 4.40% से अब 4% पर आ गई है, यह एक स्वागत योग्य कदम है. उन्होंने कहा कि इसके साथ ही एक महीने में दूसरी बार रिवर्स रेपो दर में भी 40 बीपीएस की कमी आई है और अब यह 3.35% हो गया है.

केवल राशन पर्याप्त नहीं, मजदूरों को नकदी की भी जरुरत- रघुराम राजन

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि चेयरमैन अनुज पुरी के मुताबिक, RBI की ओर से उठाया गया यह एक और बड़ा कदम है, जो डेवलपर्स के लिए नकदी संकट को कम करेगा, उन्होंने कहा रेट में कटौती न केवल सकारात्मक संकेत देगी, बल्कि बैंकों को और भी अधिक उधार देने में सक्षम बनाएगी. इस तरह से EMI चुकाने वाले ग्राहकों को आरबीआई ने बड़ी राहत दी है. लोन मोरैटोरियम की अवधि 3 महीने के लिए बढ़ाने के बाद अब 31 अगस्‍त तक इसका फायदा उठाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि आने वाले समय में रियल एस्टेट क्षेत्र के लिए यह अच्छा कदम साबित होगा.

RBI का बड़ा ऐलान- अब अगस्त तक EMI के लिए दबाव नहीं बना पाएंगे बैंक

जल्द उड़ान भरेंगे विमान, एअर इंडिया सहित कई एयरलाइंस ने शुरू की टिकट बुकिंग

RBI ने रेपो रेट में की बड़ी कटौती, अब सस्ती दरों पर मिल सकेगा कर्ज