बचपन में कई खेलों को ​दिल लगाकर खेला करते ​थे ​रवि शास्त्री

May 27 2020 01:05 AM
बचपन में कई खेलों को ​दिल लगाकर खेला करते ​थे ​रवि शास्त्री

आज यानि 27 मई को रवि शास्त्री अपना जन्मदिन मना रहे है. उनका जन्म 27 मई 1962 को मुंबई में हुआ था . इनके पिता का नाम रविशंकर जयाद्रिथा शास्त्री हैं . रवि शास्त्री  के पिताजी डॉक्टर थे . इनके घर में बच्चों को पढ़ाई की तरफ ज़्यादा से ज़्यादा ध्यान रखा जाता था.

अस्त हुआ भारतीय हॉकी का सबसे चमकदार सितारा, पद्मश्री बलबीर सिंह का निधन

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि जब रवि शास्त्री बहुत छोटे थे तब वे गिल्ली-डंडा, कंचे और फुटबॉल-हॉकी खेलने में ही ज़्यादा समय बिताते थे . रवि शास्त्री को दोस्तों के साथ बाहर खेलकूद में ही ज़्यादा मजा आता था . बचपन में रवि शास्त्री के पास ही खेलने का ज़्यादातर सामान था और किसी भी खेल में आउट हो जाने पर वे वाह से भाग जाया करते थे.

सानिया मिर्ज़ा ने अपने पति को लेकर खोले कई राज, फिर कह दी चौकाने वाली बात

इसके अलावा स्कूल में रवि शास्त्री अपनी क्लास में सबसे पीछे की बेंच पर बैठते थे. इसका एक कारण थी आखिरी बेंच के पास की खिड़की. इस खिड़की से वे क्लास से बाहर क्या चल रहा है यह देख पाते थे और ज़रूरत लगने पर चॉकलेट की पन्नी या फलों के छिलके खिड़की से बाहर भी फेंक सकते थे. वे क्लास में बैठे-बैठे चॉकलेट और दूसरी चीज़ें भी खाते थे. जब वे स्कूल में थे तो खाने के बहुत-सी चीज़ें अपने दोस्तों के लिए ले जाते थे ताकि वे अपनी चीज़ें एक-दूसरे के साथ बाँट सकें. जब रवि शास्त्री 9वीं में थे, तब स्कूल की क्रिकेट टीम बनी और उनके कोच देसाई सर ने उन्हें क्रिकेट सीखने में खूब मदद की.

भारत के जाबाज़ पहलवान सुशील कुमार को जन्मदिन की ढेरों बधाईयां

पोलैंड फुटबाल महासंघ ने प्राधनमंत्री से मांगी ये मंजूरी

ला लिगा के अध्यक्ष ने कही ये बात, इस दिन से शुरू हो सकती है लीग