मरते समय रावण ने बताए थे जीवन के ये 3 बड़े रहस्य

आज देशभर में विजयादशमी का पर्व मनाया जा रहा है। आज का ये दिन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है। रावण ने मां सीता को बंदी बना रखा था तथा इस एक पाप के कारण ही उसका अंत हुआ। किन्तु रावण शक्तिशाली योद्धा होने के साथ-साथ बहुत ही ज्ञानी और विद्वान भी था। रामायण की कहानी के मुताबिक, रावण का वध प्रभु श्री राम के हाथों हुआ था। माना जाता है कि रावण दुनिया का महान विद्वान था। रावण के मरते समय राम ने लक्ष्मण से कहा कि रावण नीति एवं शक्ति का महान ज्ञाता है। ऐसे वक़्त में तुम्हें महाज्ञानी रावण से सफल जीवन का ज्ञान प्राप्‍त कर लेना चाहिए। ये सुनकर लक्ष्मण रावण के पैरों में जाकर बैठ गए। तब महाज्ञानी तथा प्रकांड विद्वान रावण ने लक्ष्मण को जीवन की 3 अमूल्य बातें बताई। 

ये है वो 3 बातें:-

1- पहला उपदेश:-
रावण ने लक्ष्मण को सबसे पहली बात यह बताई कि शुभ कार्य को जितना शीघ्र हो सके, कर लेना चाहिए। उसके लिए कभी अधिक प्रतीक्षा नहीं करना चाहिए। नहीं तो जीवन कब समाप्त हो जाए, किसी को पता नहीं। और अशुभ कार्य को जितना टाला जा सके, जीवन के लिए उतना अच्छा है। 

2- दूसरा उपदेश:-
रावण ने लक्ष्मण को दूसरी सबसे अहम बात ये बताई कि दुश्मन और रोग को कभी छोटा नहीं समझना चाहिए। छोटे से छोटा रोग भी प्राण घातक हो सकता है। छोटे से छोटा दुश्मन भी खतरनाक हो सकता है। रावण ने राम, लक्ष्मण एवं उनकी वानर सेना को तुच्छ समझा था और वही रावण की मृत्यु की वजह भी बने।

3- तीसरा उपदेश:-
रावण ने लक्ष्मण को तीसरी ज्ञान की बात यह बताई कि अपनी जिंदगी से जुड़े राज को यथासंभव गुप्त ही रखना चाहिए। उसे किसी भी शख्स को नहीं बताना चाहिए। चाहे वह अपका सबसे प्रिय क्यों ना हो। अगर वह रहस्य किसी के सामने आ गया तो उसकी जिंदगी पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। रावण के नाभि में अमृत कुंड होने का रहस्य विभीषण को पता था तथा यही रावण की हार का कारण बन गया।

सड़को की हालत पर बोली निगम आयुक्त, 15 दिन में सुधारने के दिए आदेश

विजयादशमी पर मिला इंदौर को उपहार, शुरू हुई दो नई फ्लाइट

संघ ने मनाया अपना स्थापना दिवस, शाखा स्तर पर निकले संचलन

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -