कई स्थानों पर नहीं हुआ रावण दहन, इंद्रदेव ने डाला खलल

भोपाल/ब्यूरो। राजधानी में दशहरा के दिन वर्षा के कारण रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतलों का दहन नहीं हो सका। बुधवार देर रात तक छोला, बिट्टन मार्केट, टीटी नगर, भेल, अयोध्या नगर, अवधपुरी सहित कई स्थानों पर मैदानों पर रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतले बिना जले हुए पड़े हैं।

 नगर निगम प्रशासन को पुतलों को ट्रकों में भरकर कचरा खंतियों में ले जाना पड़ रहा है। दरअस कोरोना के कारण दो साल बाद शहर में 24 स्थानों पर सार्वजनिक रावण दहन के आयोजन ने वर्षा ने खलल डाल दिया था। वर्षा से अलग-अलग मैदानों पर खड़े रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ के पुतले भींग गई थी। इससे पुतलों का दहन करने में आयोजन समितियों के पसीने छूट गए। बड़ी मुश्किल से पेट्रोल का सहारा लेकर पुतले थोड़े-बहुत जल सके। इतना ही नहीं मैदान पर कीचड़ होने से आयोजन समितियों द्वारा की गईं व्यवस्थाएं अव्यवस्थाओं में बदल गई थीं। 

टीटी नगर और बिट्टन मार्केट दशहरा मैदान पर अतिशबाजी के दौरान पटाखे फूटे तो चिंगारियां बैठे लोगों पर गिरीं। इससे लोग कुर्सियों से भागते दिखे। इससे भगदड़ मच गई, हालांकि इन घटनाओं से कोई जनहानि नहीं हुई। वहीं मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय मैदान पर वर्षा से भींगने से रावण के पुतले की गर्दन गिर गई थी। 

'भारत जोड़ो यात्रा' में उतरीं सोनिया गांधी, देखते ही देखते वायरल हो गई तस्वीरें

हादसे का शिकार हुए मूर्ति विसर्जित कर लौट रहे भक्त, हुई दर्दनाक मौत

4 हाथ-4 पैर-4 कान... MP में जन्मा 'ब्रह्मा का अवतार', देखने को उमड़ी लोगों की भीड़

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -