7 फरवरी को है रथ सप्तमी, यहाँ जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

हर साल आने वाली रथ सप्तमी (Ratha Saptami) का व्रत माघ मास (Magh Month) के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाया जाता है। आप सभी को बता दें कि रथ सप्तमी हर साल बसंत पंचमी से महज तीन दिन बाद ही मनाई जा रही है। जी दरअसल मत्स्य पुराण के अनुसार ये व्रत भगवान सूर्य देव (Suryadev)को समर्पित होता है। आप सभी को बता दें कि रथ सप्तमी को स्नान, दान, होम, पूजा आदि सत्कर्म का फल हजार गुना अधिक फल देते हैं। वहीं इस बार इस व्रत (Ratha Saptami Fast) को 7 फरवरी को मनाया जाने वाला है। वहीं हम आपको यह भी बता दें कि रथ सप्तमी को अचला सप्तमी, सूर्यरथ सप्तमी, आरोग्य सप्तमी आदि नामों से भी जाना जाता है। तो आइए जानते हैं रथ सप्तमी का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि।

ऐसी मान्यता है कि इस दिन सू्र्योदय के समय स्नान करने से व्यक्ति को सभी बीमारियों से मुक्ति मिलती है और उसे एक अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त होता है। इसी वजह से रथ सप्तमी को आरोग्य सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है।


रथ सप्तमी शुभ मुहूर्त- सप्तमी तिथि प्रारंभ: 7 फरवरी, सोमवार, दोपहर 4:37 से सप्तमी तिथि समाप्त: 8 फरवरी, मंगलवार, सुबह 6:15 तक रथ सप्तमी पर स्नान मुहूर्त: 7 फरवरी, सुबह 5:24 से सुबह 7:09 तक अर्घ्यदान के लिए सूर्योदय का समय: सुबह 7:05 मिनट

कैसे करें रथ सप्तमी की पूजा- इसके लिए इस दिन सुबह स्नान करके सूर्योदय के समय सूर्य भगवान को अर्घ्यदान देना चाहिए। इस दौरान जल में थोड़ा सा गंगाजल फूल आदि डालना चाहिए। वहीं इसके बाद घी के दीपक और लाल फूल, कपूर और धूप के साथ सूर्य भगवान की पूजा-अर्चना करनी चाहिए , और प्रभु के सामने व्रत का संपकल्प लेकर कष्टों से मुक्ति की प्रार्थना करनी चाहिए।

माता लक्ष्मी ने लिया था गणपति को गोद, जानिए पौराणिक कथा

शादीशुदा महिला का 6 महीने तक सामूहिक बलात्कार करते रहे 5 दरिंदे, सिर्फ एक गिरफ्तार.. बाकि फरार

अमेरिकी फेडरल रिजर्व का मुद्रास्फीति सूचकांक 40 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -