रतन चक्रवर्ती हो सकते हैं त्रिपुरा विधानसभा के नए अध्यक्ष

अधिकारियों ने कहा कि त्रिपुरा के नेता और पूर्व मंत्री रतन चक्रवर्ती के निर्विरोध विधानसभा अध्यक्ष चुने जाने की संभावना है। विधानसभा सचिव बिष्णु पाडा कर्माकर ने कहा कि रिपोर्टों के अनुसार, चक्रवर्ती का नामांकन पत्र गुरुवार तक जमा किया गया था। माकपा के राज्य सचिव जितेंद्र चौधरी ने मीडिया के सामने विवरण साझा करते हुए कहा कि उनकी पार्टी, जिसके 60 सदस्यीय सदन में 16 सदस्य हैं, चुनाव नहीं लड़ेगी। उन्होंने कहा कि पार्टी जो भी भूमिका उन्हें देगी वह वह निभाएंगे।

रतन चक्रवर्ती ने कहा "मुझे लगभग तीन दशकों के बाद एक संवैधानिक नौकरी के लिए चुना गया है और मैं इसके लिए मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब का आभारी हूं।" इस पद के लिए 3 बार के विधायक का चयन उल्लेखनीय है क्योंकि डिप्टी स्पीकर बिस्वा बंधु सेन प्रबल दावेदार थे।

चक्रवर्ती 2017 में भाजपा में शामिल हुए थे। वह 2018 के चुनावों में खयेरपुर निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए थे। रतन चक्रवर्ती कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार (1988-1993) में पूर्व मंत्री हैं। पार्टी सूत्रों की जानकारी के अनुसार, 2023 के विधानसभा चुनावों से पहले चक्रवर्ती का उत्थान प्रशासन और पार्टी संगठन दोनों को ओवरहाल करने के भाजपा के फैसले का हिस्सा था।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम को बड़ा झटका, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे मैच से बाहर हुई ये खिलाड़ी

असम हिंसा के विरोध में 'दरांग बंद' का ऐलान, सरकार ने दिए घटना की जांच के आदेश

नहीं होगी जातिगत जनगणना.., सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार ने दाखिल किया हलफनामा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -