चूहे के काटने को न ले हलके में , वार्ना हो सकते है इन खतरनाक बीमारियों के शिकार

चूहे के काटने को न ले हलके में , वार्ना हो सकते है इन खतरनाक बीमारियों के शिकार
Share:

आमतौर पर घरो में चूहे देखे जा सकते है , इन्हे घर से भागने के कई उपाय मार्किट में मौजूद है जो कारगार साबित होते भी है, घर पर पाए जाने वाले चूहे अक्सर खाने की चीजों में मुँह लगा देते है जिसे खाने से इन्फेक्शन होने का दर बना रहता है इसलिए ऐसी चीजों को फेक देने में सहूलियत मानी जाती है तो क्या आप सोच भी सकते है की अगर इन्ही चूहों ने आपकी काट दिया तो ये इन्फेक्शन कितनी तेज़ी से फ़ैल सकता है ? इसलिए आज हम आपके साथ शेयर करने जा रहे है इससे जुडी हुई जानकारी , तो देर किस बात की है आइये जानते है इसके बारे में   ......................

चूहे के काटने पर डॉक्टर के पास जाने में देर नहीं करनी चाहिए। क्योंकि 72 घंटे से लेट होने पर पीड़ित को होने वाला इन्फेक्शन कंट्रोल नहीं किया जा सकता। रैबीज से ग्रसित चूहे के काटने से बुखार आ सकता है। साथ में सिर दर्द, जोड़ों में दर्द, उलटी भी हो सकता है। बॉडी में छोटे-छोटे दाने निकल सकते हैं। ये 3 से 4 दिनों बाद दिखते हैं।

अगर आपने चूहे के काटने के इंफेक्शन का सही समय पर इलाज नहीं कराया, तो आपको मायोकार्डिटस, एंडोकार्डिटिस, निमोनिया, सिस्टेमेटिक वैस्कुलटिस, पेरीकार्डिटस, पॉलीआर्थराइटस, नोडोसा, हेपेटाइटिस, नेफ्रैटिस, मेननजाइटस, फोकल एब्सकेसेस, अमिनियोटिस जैसे रोग हो सकते हैं।

इसलिए चूहे के काटने को हलके में न ले और जल्द से जल्द इसके उपचार कर डॉक्टर की सलाह से इलाज जरूर करे जिससे किसी भी गंभीर समस्या और नुकसान से बचा जा सके और इसका इलाज समय रहते किया जा सके। ऐसा करने से इन्फेक्शन फ़ैलाने से रोका जा सकता है और जान की हानि भी नहीं होगी। इसलिए 72 घंटे के अंदर इसका इलाज जरूर करे।  

ठण्ड के मौसम में नहाने का नहीं होता मन तो ये हैक्स आएंगे आपके काम , जाने

सेहतमंद रहने के लिए मिटटी के बर्तनो का ऐसे करे इस्तेमाल ,मिलेगा सेहत का खजाना

महिलाओ के लिए वरदान है गुड़हल का पौधा, जाने इसके फायदे

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -