दौड़कर बनाए अपने दिमाग को तेज़

अगर आप भी नियमित रूप से वॉक या दौड़ लगते है. तो यह खबर आपका होंसला बढ़ाने का काम करेगी. विशेषज्ञओ की माने तो वॉक करने या दर्द लगाने से आपके दिमाग की गति तेज़ होती है. यह तरीका आपको फ़ीट रखने के साथ ही स्वस्थ्य बनाए रखने में भी मददगार होता है. 

दरअसल उम्र के बढ़ने के साथ ही हमारे दिमाग पर भी इसका असर साफ़ तौर पर पड़ता है. ऐसे में आप वॉक या दौड़ से अपने शरीर के साथ दिमाग को भी तंदरुस्त बना सकते है. लंदन की एक यूनिवर्सिटी में किये गए इस शोध के अनुसार, दौड़ने या वॉक करने से हमारे पैरों के ताकतवर होने से दिमाग की कार्यप्रणाली पर भी इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. दरअसल नियमित व्यायाम से हमारे नर्व सेल्स में वृद्धि करने वाले हार्मोन्स में बढ़ोतरी होती है. जिससे हमारा दिमाग तेज़ी से काम करने लगता है. 

वॉक या दौड़ का लाभ किसी भी उम्र का व्यक्ति ले सकता है. डॉक्टर्स भी फिट रहने के लिए इसकी सलाह देते है. जहाँ हार्ट की किसी सर्जरी से गुजरने वालों से लेकर एक्सीडेंट में फ्रैक्चर के बाद ठीक हो रहे मरीजों और हड्डियों से संबंधित कई रोगों के पीड़ित तक पैदल चलने को नियमित तौर पर इसका इस्तेमाल कर सकते है. इससे आपको शारीरिक के साथ ही मानसिक लाभ भी प्राप्त होता है. 

 

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -