रमज़ान के महीने में अल्लाह कैद कर लेते है शैतान

रमज़ान का महीना बहुत ही पाक माना जाता है जो अब जल्द ही खत्म होने को है. जी हाँ, अब रमज़ान खत्म होने में कुछ ही दिन बचे हैं क्योंकि केवल दो या तीन दिन में रमज़ान का महीना खत्म हो जाएगा. जिस दिन चाँद दिख जाएगा उस दिन रमज़ान का महीना खत्म हो जाएगा. यह महीना सभी के लिए बहुत ख़ास होता है और इस महीने में मुसलमानों की सभी दुआएं ना चाहते हुए भी कबूल हो जाती हैं. कहा जाता है कि रमज़ान के महीने में अल्लाह सभी शैतानों को अपने पास कैद कर लेते है और केवल अच्छी आत्माएं और अच्छी बातें होती हैं. रमज़ान के महीने में सभी शैतान अल्लाह की कैद में रहते हैं और वहां से उनका निकल पाना नामुमकिन होता है.

मुस्लिम मान्यता के अनुसार जो लोग इंतकाल फरमा जाते हैं उन्हें रमज़ान के महीने के दौरान अल्लाह द्वारा बक्श दिया जाता है लेकिन केवल उस एक महीने के लिए जब रमज़ान चल रहा होता है. रमज़ान में उनपर से अजाब (सजा) हटा लिया जाता है. रमज़ान के महीने में हर दुआ कबूल होती है कहा जाता है कई लोग रमज़ान में ही अपनी उन दुआओं को मांगते हैं जिन्हे वो चाहते हैं कि कबूल हो ही जाए. रमज़ान की कुछ रातें बहुत ख़ास होती है वहीं कुछ दिन भी रमजान में बहुत ख़ास माने जाते हैं. रमज़ान इबादत का महीना कहा जाता है और इस महीने में सभी की इबादते पूरी होती हैं.

रमज़ान का 26वां रोज़ा और 27वी शब सबसे ख़ास

ये है रमज़ान का आखिरी सप्ताह, जानिए कुछ ख़ास

क्या आप जानते है रमज़ान की 27वीं शबे कदर की रात के बारे में

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -