रामनवमी: यहाँ जानिए राम जन्म भूमि अयोध्या के बारे में ख़ास बातें

Apr 01 2020 02:00 PM
रामनवमी: यहाँ जानिए राम जन्म भूमि अयोध्या के बारे में ख़ास बातें

आप सभी जानते ही हैं कि हिंदू धर्म में वैसे तो कई सारे पर्व और त्यौहार हैं जो मनाएं जाते हैं लेकिन सबसे ख़ास पर्वों में रामनवमी भी शामिल है जो कल यानी 2 अप्रैल को मनाई जाने वाली है. इस पर्व को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता हैं. आपको बता दें कि चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि पर रामनवमी का पावन त्योहार मनाया जाता हैं. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं राम जन्म भूमि अयोध्या के बारे में कुछ ख़ास बातें.

अगर स्कंद पुराण की माने तो उसमे अयोध्या को ब्रह्मा, विष्णु और शिव तीनों की ही पवित्र स्थली माना गया हैं. जी हाँ और अयोध्या नगरी भगवान श्री विष्णु के सुदर्शन चक्र पर बसी हैं महर्षिक वाल्मीकि ने भी महाकाव्य रामायण में अयोध्या को सरयू नदी के तपट पर बसी पवित्र नगरी बताया हैं अयोध्या देश के सभी पवित्र शहरों में से एक मानी जाती हैं अर्थर्ववेद में अयोध्या शहर को देवताओं का स्वर्ग माना गया हैं.

आप सभी को बता दें कि इसके अलावा धार्मिक नजरिए से एक कथा प्रचलित हैं कि, ''अयोध्या के महाराज विक्रमादित्य भम्रण करते हुए संयोगवश सरयू नदी के किनारे पहुंच जाते हैं तब महाराज विक्रमादित्य को अयोध्या की भूमि में कुछ चमत्कार दिखाई पड़ता हैं और आस पास के योगी संतों ने उनको बताया कि यह श्री अवध भूमि हैं तभी महाराज ने यहां मंदिर, सरोवर, कूप आदि बनवाएं.'' जी दरअसल ऐसा भी कहते हैं कि श्रीराम जी के साथ अयोध्या के कीट पतंगे तक उनके दिव्य धाम में चले आए थे और इसी के कारण से अयोध्या नगरी त्रेता युग में ही उजड़ गई थी. उसके बाद भगवान राम के पुत्र कुश ने ही श्रीराम का नाम लेकर अयोध्या नगरी को बसाया था.

2 अप्रैल को है रामनवमी, जानिए रामनवमी पूजन का शुभ मुहूर्त