भाजपा के लिए पोलिटिकल टूल है श्री राम मंदिर का मसला

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर निशाना लगाया गया है। इस दौरान उन्होंने कहा है कि वे भगवान श्री राम को टूल की तरह उपयोग करना चाहते हैं। आखिर यह बात जनता स्वीकार नहीं करेगी। दरअसल बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हाईकोर्ट के समीप भारत रत्न डाॅ. भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर आयोजित किए गए समारोह में भागीदारी करने पहुंचे थे। इस दौरान राज्यपाल और मुख्यमंत्री द्वारा आंबेडकर की आदमकद प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की गई।

इस मामले में श्रद्धांजलि देते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस का धर्म और आस्था से कोई लेना - देना नहीं है। भगवान श्री राम के मंदिर निर्माण की तिथियां भी पूछी जा रही हैं। भारतीय जनता पार्टी की तिथियों को लेकर कहा गया कि उत्तर प्रदेश का चुनाव नज़दीक आने वाला है।

आखिर इस मसले को फिर से जीवित रखने का प्रयास किया जा रहा है। मंदिर का निर्माण और स्थल तय किया गया है। मंदिर का निर्माण कोर्ट के निर्णय से किया जाएगा या फिर दोनों ही पक्षों की सहमति से किया जाएगा। उन्होंने हिंदूवादी संगठनों को लेकर कहा है कि ये संगठन मंदिर निर्माण को लेकर एक्सपोस्ड् हो चुके हैं। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -