भूमि पूजन के अवसर पर हरिद्वार में सार्वजनिक स्थलों पर रहेगी खास निगरानी

Aug 06 2020 03:08 PM
भूमि पूजन के अवसर पर हरिद्वार में सार्वजनिक स्थलों पर रहेगी खास निगरानी

देहरादून: देश के सबसे बड़े राज्य के रामनगरी अयोध्या में आज होने वाले राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम के चलते पुलिस शहर भर में सतर्क है. मिश्रित आबादी और सार्वजनिक क्षेत्रो पर पुलिस की खास निगरानी है. एसएएसपी ने सार्वजनिक तौर पर जश्न मनाने वालों के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. वही दूसरी ओर भूमि पूजन की पूर्व संध्या पर बम निरोधक एवं डॉग स्कवायड के साथ हरकी पैड़ी पर चेकिंग अभियान आरम्भ किया गया. प्रतिष्ठित पुलिस अधीक्षक सैंथिल अबुइई कृष्णराज एस ने पुलिस को चौकसी बरतने के आदेश दिए है. 

वही थाना प्रभारी अपने स्थान के चौकी प्रभारी और चीता मोबाइल के साथ क्षेत्र में निरंतर भ्रमण पर हैं. उन्होंने आदेश दिए, की मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रो में विशेष फोकस रखा जाए. अपने आवासों में लोग दीये आदि जला सकते हैं, किन्तु सार्वजनिक रूप से किसी को जश्न मनाने की अनुमति नहीं है. धार्मिक स्थलों पर पूजन आदि में सामाजिक दुरी का पालन होना चाहिए. नियमों की अनदेेेखी करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी. साथ ही राममंदिर भूमि पूजन समारोह में टूरिस्ट मिनिस्टर सतपाल महाराज सम्मिलित हो रहे हैं. 

साथ ही विश्व हिंदू परिषद के आमंत्रण पर महाराज रामनगरी अयोध्या पहुंचे हैं. महाराज ने अपने बयान में बताया, उत्तराखंड की जनता और टूरिस्ट डिपार्टमेंट की तरफ से गंगा एवं यमुना जल से भरे कलश पहले ही अयोध्या पहुंचा दिए गए हैं. जिससे इस पवित्र जल से प्रभु श्री राम का अभिषेक किया जा सके. उन्होंने मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम से विनती करते हुए कहा, प्रभु श्री राम हमारे सैनिकों और कोरोना वॉरियर्स को मजबूत बनाएं. जिससे आंतरिक और बाह्य तौर पर देश की रक्षा हो सके. राम मंदिर निर्माण भूमि पूजन कार्यक्रम मुहूर्त की चर्चा को लेकर महाराज ने कहा, मंगल भवन अमंगल हारी, सारे अमंगलों को दूर करने वाले प्रभु श्रीराम हैं. इसी के साथ सम्पूर्ण देश में सभी दिशा-निर्देशों का पालन कर जश्न मनाया जाएगा.

पीएम मोदी की फैन हुई शिवसेना, सामना संपादकीय में की जय..जयकार

रामजन्म भूमि : पीएम मोदी ने फॉलो किए कोरोना नियम, नहीं लिया प्रसाद और नहीं लगाया टीका

ऐतिहासिक पूजन में जुटे पीएम मोदी, मंत्रो के उच्चारण से गुंजायमान हुई राम जन्मभूमि