रक्षाबंधन : भाई को पहनाएं घर पर बनी वैदिक राखी

रक्षाबंधन : भाई को पहनाएं घर पर बनी वैदिक राखी

रक्षा बंधन भाई-बहन का त्यौहार है जो इस साल 26 अगस्त 2018 को आने वाला है. इस दिन बहन भाई को रक्षा सूत्र बांधती है और अपनी रक्षा का वचन भी मांगती है. इस दिन के लिए खास बाजार में तरह-तरह की राखी मिलती है जो बहुत ही खूबसूरत होती हैं. लेकिन अगर आप अपने भाई के लिए राखी घर में  ही बनाना चाहते हैं तो हम आपको बता देते हैं कैसे बना सकते हैं राखी. 

आपने कभी वैदिक राखी के बारे में सुना होगा और जानते भी होंगे तो उसी के बारे में हम बताने जा रहे हैं कैसे बना सकते हैं अपने हाथ से ये वैदिक राखी जो आपके और भाई के प्यार भरे रिश्ते को और भी मजबूत बना देगी.

वैदिक राखी बनाने के लिए -

1. दूब (घास)
2. अक्षत (चावल)
3. केसर
4. चंदन
5. पीली सरसों के दाने

इन पांचों वस्तुओं को रेशम के कपड़े में बांध दें या सिलाई कर दें, फिर उसे कलावा में पिरो दें। इस प्रकार आपकी वैदिक राखी तैयार होती है. 
अब जानते हैं इन चीज़ों का क्या महत्व होता है.

* दूब : दूब का अंकुर तेजी से फैलता है उसी प्रकार भाई का वंश भी फैले इसलिए दूब का उपयोग किया जाता है.

* अक्षत (चावल) : राखी मे अक्षत होने का मतलब है भाई के प्रति श्रद्धा कभी सदैव बनी रहे.

* केसर : केसर की प्रकृति तेज होती है उसी प्रकार हमारा भाई भी तेजस्वी हो इसलिए केसर का उपयोग किया जाता है.

* चन्दन : चंदन सुगंध और शीतलता देता है उसी प्रकार भाई के जीवन में कभी मानसिक तनाव न हो और उसका जीवन सुगंध और शीतलता से भरा रहे.

* पीली सरसों के दाने : सरसों की प्रकृति तीक्ष्ण होती है उसी प्रकार उसका भाई समाज के दुर्गुणों एवं बुराइयों को समाप्त करने में तीक्ष्ण बने.

रक्षा बंधन : जानें रक्षा बंधन की ये खास बातें

B'day Spl : काम के अभाव में खेती करने पर मजबूर हुई ये मशहूर एक्ट्रेस

अपनी कातिलाना तस्वीरों से राखी ने मचाया धमाल

 

?