यह है राखी के शुभ, लाभ और अमृत मुहूर्त, जानिए यहाँ

Aug 14 2019 04:00 PM
यह है राखी के शुभ, लाभ और अमृत मुहूर्त, जानिए यहाँ

रक्षा बंधन का त्यौहार बहुत मुख्य माना जाता है और यह त्यौहार भाई बहन के लिए बहुत ख़ास होता है. ऐसे में इस बार यह त्यौहार 15 अगस्त को है। आपको बता दें कि इस दिन सबसे ज्यादा शुभ मुहूर्त तलाशे जाते हैं और भाई और बहन दोनों एक दूसरे की सुरक्षा और समृद्धि की कामना करते हैं. अब इसी वजह से बहने सबसे अच्छे मुहूर्त में राखी बांधने की शुभेच्छा करती हैं. अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं इस साल कौन से बेहतरीन संयोग बन रहे हैं और किस समय राखी बांधना होगा सबसे श्रेष्ठ.

1. इस बार सौभाग्य और सिद्धि योग में भाई की कलाई पर 15 अगस्त को बहनें रेशम की डोर बांधेंगी और 19 साल बाद यह ऐसा अवसर होगा जब स्वतंत्रता दिवस और राखी का त्योहार साथ मनाया जाने वाला है.

2. इस साल रक्षाबंधन के एक दिन पहले भद्रा का दोष मिटने और 4 दिन पहले देव गुरु बृहस्पति के मार्गी होने से पर्व की शुभता बढ़ गई है और पर्व पर भद्रा का साया नहीं है इस कारण दिनभर राखी बाँध सकते हैं.

3. इस बार पूर्णिमा तिथि 14 अगस्त बुधवार को दोपहर 3 बजकर 46 मिनट से शुरू होगी और 15 अगस्त गुरुवार को शाम 5 बजकर 58 मिनट तक रहने वाली है.

4. आपको बता दें कि इस वर्ष भद्रा रक्षाबंधन के एक दिन पहले 14 अगस्त बुधवार की दोपहर 3 बजकर 45 मिनट से तड़के 4 बजकर 51 मिनट तक रहेगी. इसी के साथ शुभ श्रवण नक्षत्र भी 14 अगस्त की सुबह 5 बजकर 19 मिनट से दूसरे दिन 15 अगस्त की सुबह 8 बजकर 1 मिनट तक रहने वाला है. इसी के साथ 14 अगस्त को ही सुबह 11 बजकर 14 मिनट पर सौभाग्य योग लगेगा जो दूसरे दिन 15 अगस्त को सुबह 11 बजकर 59 मिनट तक रहने वाला है और इसके बाद शोभन योग लगने वाला है.

5. इसी के साथ इस साल 19 साल बाद स्वतंत्रता दिवस और राखी एक ही दिन मनाए जाने वाले हैं और रक्षाबंधन का पर्व गुरुवार को मनाया जाने वाला है. आपको बता दें कि मान्यता है कि देवगुरु बृहस्पति ने देवराज इंद्र की विजय प्राप्ति के लिए इंद्र की पत्नी को रक्षा सूत्र बांधने को कहा था और इसके बाद से पर्व की शुरुआत हुई थी.

 
चौघड़िया के अनुसार रक्षासूत्र बांधने के सबसे सही शुभ मुहूर्त- 

शुभ : सुबह 06.04 से 07.40 और शाम 5.17 से 06.53 बजे तक।

चर : सुबह 10.52 बजे से दोपहर 12.28 और रात 08.18 से 09.41 बजे तक।

लाभ : दोपहर 12.29 से 02.04 बजे तक।

अमृत : शाम 06.54 से रात 08.17 बजे तक।

श्रवण कुमार पूजन का श्रेष्ठ मुहूर्त

दोपहर : 12. 04 बजे से 12.28 बजे तक (अभिजीत+चर) 

इस बार PM मोदी के लिए ख़ास तोहफा लेकर आई है पाकिस्तानी बहन, हर साल बांधती है राखी

अपने भाई को दें उसकी राशि के अनुसार गिफ्ट, जीवनभर मिलेगा लाभ

सौतेले भाई-बहन होने के बाद भी खूब प्यार से रहते हैं यह बॉलीवुड किड्स