रजनीकांत पर भारी पड़ा है

रजनीकांत और केजरीवाल की मुलाकात हो जाती है..!

रजनीकांत:
मेरे गाँव में लाइट नहीं थी..!
मैं अगरबत्ती जलाकर उसकी रौशनी में पढ़ता था ।

केजरीवाल:
हमारे गाँव में भी बिजली नहीं थी
और हमारे पास अगरबत्ती के पैसे भी नहीं थे..!
फिर भी मैं पढ़ा ।

रजनीकांत: कैसे..?

केजरीवाल:
मेरा एक दोस्त था प्रकाश.. उसे पास बिठा कर पढता था।
एक दिन प्रकाश भीग गया वो नहीं आया फिर भी मैं पढ़ा ।

रजनीकांत: कैसे..?

केजरीवाल:
गाँव में ज्योति नाम की लड़की भी तो थी ।
उसके पास बैठ कर।

रजनीकांत बेहोश..
आज तक के इतिहास मे पहली बार कोई रजनीकांत पर भारी पड़ा है..!

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -