जहाँ बुजुर्गों का सम्मान नहीं, वहां निश्चित है विनाश

Jan 18 2016 12:25 PM
जहाँ बुजुर्गों का सम्मान नहीं, वहां निश्चित है विनाश

नई दिल्ली : केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने वृद्धों के सम्मान की अपील करते हुए कहा कि जहां भी बुजुर्गों का सम्मान नहीं होता वहां पर विनाश होता है बुजुर्गों के साथ बुरा बर्ताव करने वालों को भगवान माफ नहीं करता है। उनका कहना था कि अशक्तों के पुनर्वास हेतु भारत में वृद्धाश्रम का निर्माण करना जरूरी है। दरअसल केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह बुजुर्गों की मदद के लिए विभिन्न परियोजनाओं के क्रियान्वयन और उनके सम्मान हेतु आयोजित किए गए समारोह में शामिल हुए थे।

उन्होंने कहा कि एक सभ्य और शिक्षित समाज से यह आस लगाई जाती है कि वह अपने बुजुर्गों का ध्यान रखेगा। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि देश के लिए महाशक्ति बनने की आकांक्षा रखने के स्थान पर उसका विश्व गुरू के तौर पर उभरना सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण है। राजनाथ सिंह ने कहा कि रामायण की शिक्षाऐं उद्धृत होना चाहिए।

भगवान राम की ही तरह अपने सिद्धांतों का पालन करना एक अलग ही गुण है। भगवान राम अपने पिता की बात रखने और उनका सम्मान करने के लिए 14 वर्ष तक वनवास गए। केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि यदि समाज को सभ्य, शिक्षित और विकसित होना है तो अपने बुजुर्गों का सम्मान करने की संभावना भी है। उन्होंने युवाओं और दूसरे लोगों से अपील की कि वे केवल बुजुर्गों की सहायता हेतु नहीं बल्कि देश को इस तरह की प्रक्रिया में मजबूत बनाने हेतु सदियों पुरानी भारतीय परंपरा और मूल्यों से प्रेरणा लेंगे।