राजकोट लोकसभा सीट: भाजपा के गढ़ में किसान हैं मुख्य मुद्दा, क्या होगा इस बार ?

राजकोट लोकसभा सीट: भाजपा के गढ़ में किसान हैं मुख्य मुद्दा, क्या होगा इस बार ?

राजकोट: गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित राजकोट संसदीय क्षेत्र के लिए लोकसभा चुनाव 2019 का ज्वलंत मुद्दा कृषि और किसान संकट है. ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के मेलजोल वाली यह सीट भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का मजबूत किला मानी जाती है. गत सात चुनावों में से छह बार यह सीट भाजपा पार्टी के हिस्से में आई है.

हालांकि इस बार कांग्रेस सत्तारूढ़ दल को कड़ी टक्कर देने की कोशिश में लगी हुई है. यहां मुख्य मुकाबला भाजपा के वर्तमान सांसद मोहन कुंदरिया और कांग्रेस उम्मीदवार तथा विधायक ललित कगथारा के मध्य है. केन्द्र ने हाल ही में राजकोट में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान स्थापित करने का ऐलान किया है. आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति ने भी हाल ही में यहां अंतरराष्ट्रीय एयर पोर्ट बनाने की अनुमति दी है. इसके लिए जमीन प्रदेश सरकार ने आवंटित की है. राजकोट सीट से भाजपा प्रत्याशी धनसुख भंडारी ने कहा है कि, 'मोदी के पीएम बनने के बाद उन्होंने राजकोट के लिए जो किया है वो कार्य कांग्रेस 60 वर्षों में भी नहीं कर सकी.'

उन्होंने कहा है कि शहर को एम्स और अंतरराष्ट्रीय एयर पोर्ट मिलने वाला है. सौनी योजना से पेयजल की दिक्कत हल हो गई है. भंडारी ने दावा किया है कि राजकोट लोकसभा सीट इस बार भी भगवा पार्टी के खाते में आएगी. उन्होंने दावा किया है कि सीट के सभी सात विधानसभा क्षेत्रों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बढ़त हासिल होगी.

खबरें और भी:-

 

जमात-ए-इस्लामी ने जारी किया पत्र, लोगों से कहा - सपा-बसपा को वोट दें

जीतन राम मांझी ने की पीएम मोदी की प्रशंसा, कहा - वो गलत व्यक्ति नहीं लेकिन...

शिबू सोरेन पर सीएम रघुबर ने किया प्रहार, JMM बोली- जनता के डर से आते हैं ऐसे बयान