छात्र संघ चुनाव: निर्दलीय के सिर बंधा जीत का सेहरा

छात्र संघ चुनाव: निर्दलीय के सिर बंधा जीत का सेहरा

जयपुर : राजस्थान विवि छात्रसंघ चुनाव का परिणाम चैकाने वाला आया है। जिस परिणाम की कभी उम्मीद छात्रों ने नहीं की होगी, वही परिणाम उन्हें देखने को मिला है। विवि छात्रसंघ के चुनाव में भले ही विभिन्न छात्र संगठनों ने अपने प्रत्याशी मैदान में उतारे थे, लेकिन इसके बाद भी सफलता निर्दलीय रूप से अध्यक्ष पद के लिये किस्मत आजमाने वाले प्रत्याशी अंकित धायल को मिली है।

अंकित के अलावा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को भी तीन सीटों पर सफलता मिली। राजस्थान विवि छात्र संघ चुनाव को लेकर छात्र संगठनों ने काफी हो हल्ला मचा रखा था। हर दिन कहीं रैली तो कहीं सभाओं का आयोजन किया जा रहा था। इसके चलते काॅलेजों में पढ़ाई का कार्य भी प्रभावित हुआ, लेकिन चुनाव परिणाम पर छात्रों के अलावा राजनीतिक दलों की भी निगाहें लगी हुई थी।

जिस चुनाव परिणाम की उम्मीदें की जा रही थी, परिणाम इसके विपरित आया है। चुनाव में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और एनएसयूआई के बीच कड़ी टक्कर मानी जा रही थी, लेकिन इन दोनों के बीच निर्दलीय प्रत्याशी अध्यक्ष पद पर बाजी मार गया। हालांकि अध्यक्ष पद चुनाव के लिये चार बार वोटों की गिनती कराई गई थी। इसके बाद भी निर्दलीय प्रत्याशी को जीत मिली।

परिषद को अन्य तीन पदों पर सफलता मिली है, लेकिन एनएसयूआई को किसी भी पर पर जीत नहीं मिलने के कारण कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों में मायूसी छा गई। संभवतः छात्र संघ चुनाव के इतिहास में यह पहली बार ही हुआ होगा जब अध्यक्ष पद पर किसी निर्दलीय प्रत्याशी के सिर पर जीत का सेहरा बंधा।

सरकार का विरोध करने सड़क पर उतरा राज परिवार