अब कैदियों पर लगाम लगाने के लिए स्निफर डॉग्स की मदद लेगा जेल प्रशासन

Jun 10 2019 08:30 PM
अब कैदियों पर लगाम लगाने के लिए स्निफर डॉग्स की मदद लेगा जेल प्रशासन

जयपुर: राजस्थान की जेलों में कैदियों के पास अवैध मोबाइल व ड्रग्स पर अंकुश लगाने में विफल जेल प्रशासन अब खोजी कुत्तों का सहारा लेगा. अब जेलों के भीतर चैकिंग का जिम्मा स्निफर डॉग्स के पास रहेगा. जेल प्रशासन ने स्निफर डॉग्स खरीद का प्रस्ताव प्रदेश सरकार को पहुंचा दिया है, जिसे जल्द ही हरी झंडी मिलने की संभावना है.

राजस्थान में छोटी-बड़ी कुल मिलाकर 127 जेल हैं. इनमें 14 सेंट्रल जेल, 24 जिला जेल, 60 सब जेल तथा 29 खुली हुई जेल शामिल हैं. इन जेलों में 20 हजार से अधिक सजायाफ्ता या अंडर ट्रायल कैदी कैद है. जेलों में बंद कैदियों के पास मोबाइल व मादक पदार्थ मिलने की घटनाएं निरंतर बढ़ती ही जा रही है. मोबाइल फोन के कारण हार्डकोर अपराधी जेल मे कैद रहने के दौरान भी बाहर अपराधिक गतिविधियां संचालित कर रहे हैं.

मोबाइल के माध्यम से धमकी देकर पैसा वसूलने जैसे काम सरलता से अंजाम दे रहे हैं. जेल प्रशासन ने कैदियों के पास मोबाइल व मादक पदार्थ मिलने की घटनाओं को रोकने के लिए जैमर लगाए, बॉडी मेटल डिटेक्टर भी लगाए और यहां तक की तलाशी व सुरक्षा के लिए आरएसी की तैनाती भी की, लेकिन फिर भी जेलों में मोबाइल की घटनाएं नहीं रुकी, आइल अब प्रशासन ने स्निफर डॉग्स की मदद लेने का विचार किया है. 

विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के नुकसान को लेकर कुछ ऐसा बोले उद्योग मंत्री

वैश्विक स्तर पर दाम बढ़ने से घरेलू बाजार में भी नजर आई सोने के दाम में बढ़ोतरी

वैश्विक बाजारों में नरमी के चलते तेल के दामों में नजर आई गिरावट