खतरे में गहलोत सरकार ! कांग्रेस के हाथ से फिसल सकता है एक और राज्य

खतरे में गहलोत सरकार ! कांग्रेस के हाथ से फिसल सकता है एक और राज्य

जयपुर: राजस्थान में सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच मतभेद की वजह से सरकार जाने का खतरा मंडराने लगा है. राज्य में बिगड़ते राजनितिक हालात के मद्देनज़र कांग्रेस की आलाकमान ने पार्टी के तीन नेताओं को जयपुर भेजने का निर्णय लिया है. वहीं, राज्य के सीएम रविवार रात पार्टी के विधायकों और मंत्रियों के साथ मीटिंग करने वाले हैं. सोमवार सुबह 10.30 कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग होनी है.

सूत्रों के अनुसार, सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग में सचिन पायलट शामिल नहीं होंगे. पायलट खेमे की तरफ से दावा किया जा रहा है कि उनके समर्थन में 30 MLA हैं. इधर, गहलोत खेमे ने 100 से ज्यादा विधायकों के अपने पक्ष में होने का दावा किया है. वहीं, भाजपा की तरफ से कहा जा रहा है कि सचिन पायलट से उनका कोई संपर्क नहीं है. ये कांग्रेस का आंतरिक मसला है. सूत्रों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, कल सुबह होने वाली कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग से पहले आज देर रात सचिन पायलट के खेमे के MLA, विधानसभा स्पीकर को त्यागपत्र भेज सकते हैं.

इससे पहले सचिन पायलट के मित्र दानिश अबरार, चेतन डूडी तथा रोहित बोहरा मुख्यमंत्री निवास पहुंचे और यहां प्रेस वार्ता में कहा कि हमारी आस्था सीएम अशोक गहलोत में है. हम लोग दिल्ली अपने निजी काम के लिए गए थे. तीनों ने कहा कि "बीते दो दिनों से सचिन पायलट से हमारा कोई संपर्क नहीं हुआ है." वहीं सियासी जानकारी इसे अशोक गहलोत की एक बड़ी कामयाबी माना रहे हैं क्योंकि यह तीनों MLA सचिन पायलट के दोस्त हैं.

पाकिस्तान में हिन्दुओं पर अत्याचार जारी, कट्टरपंथियों ने एक और नाबालिग लड़की को किया अगवा

संकट में कांग्रेस का राजस्थान 'राज', सचिन पायलट ने दिल्ली पहुँच बढ़ाई मुश्किलें

अमेरिकन नेवी की पहली अश्वेत महिला पायलट बनीं मेडलिन, रच दिया इतिहास