राजस्थान में ठेकेदारों की मनमानी, कार्यावधि हो गई पूर्ण, लेकिन काम नहीं हुआ शुरू

Aug 05 2019 04:43 PM
राजस्थान में ठेकेदारों की मनमानी, कार्यावधि हो गई पूर्ण, लेकिन काम नहीं हुआ शुरू

बारां: राजस्थान के बारां जिले में सड़क ठेकेदार की मनमर्जी कि वजह से लगभग 60 गांवों के लोगों को टूटी सड़कों पर चलने को मजबूर होना पड़ रहा है. 1 वर्ष पूर्व मिले कार्यदेश के बाद भी ठेकदार ने अब तक सड़कों पर एक भी पत्थर नहीं लगाया है. जिसकी वजह से आये दिन ग्रामीणों को दुर्घटना का शिकार होना पड़ रहा है. वहीं, सार्वजनिक निर्माण विभाग भी ठेकेदार की मनमानी के आगे नतमस्तक सा दिखाई देता है. 

बारां पंचायत समिति में प्रदेश सरकार द्वारा जून 2018 में ग्रामीण क्षेत्रों में कुल 28 किमी की 5 टूटी सड़कों के नवीनीकरण के लिए 5 करोड़ से अधिक राशि के कार्यादेश डागा कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिए गए थे. जिसमें खेड़ली से कोयला होकर केशव, कोयला से रेबारपुरा, कुंड से चिनारपुरिया, खेड़ली की एप्रोचिंग सड़क समेत बारां से माथना होकर तिसाया तक की जर्जर हो चुकी सड़कों की मरम्मत करना था. 

1 जून 20018 में सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा इन कामों के टेंडर एक ही फर्म को दिए गए थे. किन्तु मार्च 2019 में ही पूरे हो जाने वाले इस कार्य में बीते 1 वर्ष बाद भी एक पत्थर तक नहीं लग पाया है. वर्षों से इन सड़कों के लिए संघर्ष कर रहे ग्रामीणों में अब बेहद आक्रोश नज़र आ रहा है.  वहीं, सड़कों को बनाने वाले सार्वजानिक निर्माण विभाग के जिम्मेदार अफसर ने फर्म पर न तो जुर्माना लगाया है नहीं किसी प्रकार का दबाव डाला है.

काहिरा: अस्पताल के सामने हुए धमाके में गई 17 लोगों की जान, 32 घायल

मोदी सरकार दे रही सस्ता सोना खरीदने का मौका, आज से ही शुरू हुई योजना

आरबीआई ने जारी किया संसद सदस्य और विधायक से संबंधित ये सर्कुलर