राज कपूर से ब्रेकअप होते ही आत्महत्या करना चाहती थीं नरगिस

बॉलीवुड में कई हिट फ़िल्में देने वाली नरगिस दत्त आज इस दुनिया में नहीं है. नरगिस का जन्म 1 June 1929, को कोलकाता में हुआ था और उनकी मृत्यु 3 May 1981, को मुंबई में हुई थी. नरगिस ने आज ही के दिन दुनिया को अलविदा कहा था. हिंदी सिनेमा को शुरूआती दौर में जिन अभिनेत्रियों ने एक अलग ऊंचाई दी है उनमें नरगिस का नाम भी शामिल है. वैसे बहुत कम लोग जानते हैं कि नरगिस राज्यसभा के लिए नॉमिनेट होने और पद्मश्री पुरस्कार पाने वाली पहली हीरोइन थीं. जी हाँ, नरगिस के अभिनय का जादू एक समय में कुछ ऐसा था कि साल 1968 में जब बेस्ट एक्ट्रेस के लिए पहले फ़िल्मफेयर अवॉर्ड देने की बारी आई तो उन्हें ही चुना गया. वैसे नरगिस के बचपन का नाम फातिमा राशिद था लेकिन जब उन्होंने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट एक फिल्म में काम किया तो उस समय उनकी उम्र महज 6 साल की थी. वहीं इस फ़िल्म के बाद वो बेबी नरगिस के नाम से मशहूर हो गयीं और इस फिल्म के बाद उन्होंने कई फ़िल्में की.

केवल इतना ही नहीं कहा जाता है साल 1940 से लेकर साल 1950 के बीच नरगिस ने कई बड़ी फ़िल्मों में काम किया, जिनमे ‘बरसात’, ‘आवारा’, ‘दीदार’ और ‘श्री 420’ शामिल रहीं. उस समय राज कपूर का दौर था और नरगिस ने राज कपूर के साथ 16 फ़िल्में की और ज़्यादातर फ़िल्में सफल साबित हुईं. इसी दौरान दोनों में नजदीकियां भी बढ़ने लगीं और दोनों को एक-दूसरे से प्यार हो गया और दोनों ने शादी करने का मन भी बना लिया. आप सभी को बता दें कि लेखिका मधु जैन की किताब 'द कपूर्स' के मुताबिक – "जब बरसात बन रही थी, नरगिस पूरी तरह से राज कपूर के लिए समर्पित हो चुकी थीं. यहां तक कि जब स्टूडियो में पैसे की कमी हुई तो नरगिस ने अपनी सोने की चूड़ियां तक बेचीं. उन्होंने दूसरे निर्माताओं की फ़िल्मों में काम करके आर.के फ़िल्म्स की खाली तिजोरी को भरने का काम किया."

वहीं राज कपूर जब 1954 में मॉस्को गए तो अपने साथ नरगिस को भी ले गए और इसी बीच कुछ ऐसा हुआ कि दोनों के बीच ग़लतफ़हमी हुई और दोनों अलग हो गए. कहा जाता है अलग होने के बाद नरगिस आत्महत्या करना चाहती थीं लेकिन तभी उनकी जिंदगी में सुनील दत्त आ गए. वहीं राज कपूर से अलग होने के ठीक एक साल बाद नरगिस ने 1957 में महबूब ख़ान की 'मदर इंडिया' की शूटिंग शुरू की और मदर इंडिया की शूटिंग के दौरान सेट पर आग लग गई. कहा जाता है सुनील दत्त ने अपनी जान पर खेलकर नरगिस को बचाया और उसी के बाद दोनों में प्यार हो गया. वहीं मार्च 1958 में दोनों की शादी हो गई और दोनों के तीन बच्चे हुए, संजय, प्रिया और नम्रता. अब नरगिस इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन लोग अब भी उनकी अदाकारी को भूल नहीं पाए हैं.

बुमराह को 'बेबी बॉलर' कहने वाले इस पाकिस्तानी खिलाड़ी ने कही यह बात

अगली पेंटिंग बनाने की तैयारी में हैं सनी लियोनी, पति और बच्चे कर रहे हैं मदद

शहर में गुजारा मुमकिन नहीं है लेकिन गाँव बचा लेगा उम्मीद यही है

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -