इस उत्पादन को लेकर रेलवे ने बनाया रिकार्ड

कोरोना संकट के बीच बीते रविवार तक 17000 पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) को रेलवे ने तैयार किया है. यह काम उत्तर रेलवे ने मेडिकल प्रोफेशनल्स स्टॉफ ने मिलकर अंजाम दिया है. इस बारे में एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एक दिन में 2000 की रिकार्ड संख्या में उत्पादन किया गया है. पिछले महीने रेलवे ने कुल मिलाकर ऐसी 41000 यूनिटें तैयार की थीं. इसमें 12000 उत्तर रेलवे की थीं. उत्तर रेलवे के मुख्य यांत्रिक अभियंता अरुण अरोड़ा ने यह जानकारी उपलब्ध कराई है. 

सिखों के दूसरे गुरु, जिन्हे लोग प्यार से कहते थे 'भक्त अमरदास'

इसके अलावा भारतीय रेलवे ने 6000 कॉवरआल तैयार किए है. इस काम को मई के पहले दो दिनों में पूरा किया गया है. इस विशेष काम में उत्तर रेलवे का 3000 यूनिट का योगदान रहा. अनुमान है कि इस महीने उत्तर रेलवे वर्कशॉप डॉक्टरों और पैरामेडिकल को तत्काल आपूर्ति के लिए 30,000 से ज्यादा किट तैयार करने में सक्षम होगा. डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ कोविड-19 से संघर्ष में अग्रिम पंक्ति में हैं.

विश्व अस्थमा दिवस: कहीं आपको भी सांस लेने में तकलीफ तो नहीं ?

अपने बयान में आगे अरोड़ा ने कहा कि उत्तर रेलवे द्वारा तैयार प्रति कॉवरआल की लागत 447 रुपये है जबकि बाजार में ऐसी किट का मूल्य 805 रुपये है. रेलवे ने 31 मई तक ऐसे एक लाख पीपीई कॉवरआल तैयार करने का लक्ष्य निर्धारित किया है.

आई फॉर इंडिया कॉन्सर्ट में अर्जुन कपूर ने मांगी मदद, कहा- 'दान करो'

इरफान के निधन को नामुमकिन मानती है यह फिल्म मेकर

कुछ इस तरह शुरू हुआ था पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी ज़ैल सिंह का राजनीतिक सफर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -