रेलवे आरक्षित टिकट के आकार को 64 फीसदी बढ़ाएगी

पटना : रेलवे ने अब आरक्षित टिकट के साइज को बढ़ाने का निर्णय लिया है। यह केवल काउंटर से लिए गए आरक्षित टिकटों पर ही लागू होगा। टिकट के आकार को बढाने पर रेलवे विज्ञापन देगा, जिससे रेलवे को अतिरिक्त कमाई होगी। विज्ञापन देने वाली कंपनी को ही इसकी छपाई की भी जिम्मेदारी दी जाएगी।

यह पूरी तरह कलरफुल होगा। टिकट का साइज बढ़ने से यात्रियों को हेल्पलाइन नंबर साफ दिखाई देगा। विज्ञापन प्रिंट होने के कारण ये नंबर स्पष्ट नजर नहीं आते है। टिकट में नीचे की ओर रैंडम नंबर, विंडो नंबर, कैटरिंग की शिकायत, इंक्वायरी नंबर व पैसेंजर सिक्योरिटी नंबर होते है।

नया टिकट 15.6 सेमी लंबा और 9.6 सेमी चौड़ा होगा। फिलहाल यह 12.7 सेमी लंबा और 7.2 सेमी चौड़ा है। यानि पहले से यह 64 फीसदी लंबा होगा। बढ़े हुए स्थान को विज्ञापन से ढंका जाएगा। इसके लिए रेलवे बोर्ड सभी जोनल मुख्यालयों को पत्र भेजकर बढ़े स्पेस का उपयोग विज्ञापन के लिए करने को कहेगा।

टिकट के 30 प्रतिशत भाग में यात्रियों से संबंधित सूचनाएं होगी। अन्य 70 प्रतिशत हिस्से में कंपनियों के विज्ञापन होंगे। टिकट के साइज को बढ़ाने से सबसे अधिक नुकसान पर्यावरण को होगा, इसके बाद इसे आसानी से पॉकेट या पर्स में रखना भी मुमकिन नहीं होगा।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -