राहुल-प्रियंका और सोनिया, संसद में होगा पूरा गांधी परिवार ! कांग्रेस प्रमुख खड़गे का बड़ा फैसला

राहुल-प्रियंका और सोनिया, संसद में होगा पूरा गांधी परिवार ! कांग्रेस प्रमुख खड़गे का बड़ा फैसला
Share:

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने वायनाड लोकसभा सीट छोड़ने का फैसला किया है और वह अपने पारिवारिक गढ़ रायबरेली से ही सांसद रहेंगे, जहां से उन्होंने हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में जीत हासिल की थी, पार्टी प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार देर शाम को यह जानकारी दी। खड़गे ने कहा कि उनकी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वायनाड सीट से चुनावी मैदान में उतरेंगी।

उल्लेखनीय है कि राहुल गांधी ने आम चुनावों में दोनों लोकसभा सीटों - केरल में वायनाड और उत्तर प्रदेश में रायबरेली - पर प्रभावशाली अंतर से जीत हासिल की थी। कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व द्वारा नई दिल्ली में पार्टी प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे के आवास पर विचार-विमर्श के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस निर्णय की घोषणा की गई। नियमों के अनुसार, राहुल गांधी को 4 जून को आए लोकसभा नतीजों के 14 दिनों के भीतर इनमें से एक सीट खाली करनी थी। अब जबकि राहुल गांधी ने रायबरेली में ही रहने का फैसला किया है, उनकी बहन प्रियंका उपचुनाव में खाली हुई वायनाड सीट से चुनाव लड़ेंगी।

खड़गे ने घोषणा करते हुए कहा कि, "राहुल गांधी दो लोकसभा सीटों से जीते हैं, लेकिन कानून के अनुसार उन्हें एक सीट छोड़नी होगी। राहुल गांधी रायबरेली से चुनाव लड़ेंगे और हमने फैसला किया है कि प्रियंका जी वायनाड से चुनाव लड़ेंगी।" फैसले के बाद राहुल गांधी ने कहा कि रायबरेली और वायनाड दोनों को दो-दो सांसद मिलेंगे । उन्होंने आश्वासन दिया कि गांधी भाई-बहन दोनों निर्वाचन क्षेत्रों का अक्सर दौरा करेंगे।

उन्होंने कहा कि, "प्रियंका गांधी चुनाव लड़ने जा रही हैं और मुझे विश्वास है कि वह चुनाव जीतेंगी। वायनाड के लोग सोच सकते हैं कि उनके पास संसद के दो सदस्य हैं, एक मेरी बहन हैं और दूसरी मैं हूं। वायनाड के लोगों के लिए मेरे दरवाजे हमेशा खुले हैं, मैं वायनाड के हर एक  व्यक्ति से प्यार करता हूं।" इस बीच, प्रियंका गांधी ने कहा कि वह वायनाड के लोगों को राहुल की कमी महसूस नहीं होने देंगी। उन्होंने कहा कि, "मैं वायनाड का प्रतिनिधित्व करने में सक्षम होने के कारण बहुत खुश हूं और मैं उन्हें उनकी (राहुल गांधी की) अनुपस्थिति महसूस नहीं होने दूंगी। मैं कड़ी मेहनत करूंगी और सभी को खुश करने और एक अच्छा प्रतिनिधि बनने की पूरी कोशिश करूंगी। रायबरेली और अमेठी से मेरा बहुत पुराना रिश्ता है और इसे तोड़ा नहीं जा सकता। मैं रायबरेली में अपने भाई की भी मदद करूंगी। हम दोनों रायबरेली और वायनाड में मौजूद रहेंगे।"

घोषणा के तुरंत बाद, वायनाड में कई कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए और दक्षिणी राज्य में प्रियंका गांधी का स्वागत करते हुए नारे लगाए। 52 वर्षीय प्रियंका गांधी का नाम अमेठी, रायबरेली और वाराणसी समेत कई संसदीय सीटों के लिए कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर लिया जा रहा था। लेकिन अब वह केरल के वायनाड के सुरक्षित इलाके से चुनावी राजनीति में कदम रखेंगी। उल्लेखनीय है कि यदि प्रियंका लोकसभा उपचुनाव जीत जाती हैं तो यह पहली बार होगा कि गांधी परिवार के तीन सदस्य संसद में होंगे। यहाँ से प्रियंका की जीत के आसार काफी अधिक हैं, क्योंकि इस सीट पर 45 फीसद मुस्लिम आबादी है, और मुस्लिम लीग ने खुलकर कांग्रेस को समर्थन दिया है, इसलिए कम्युनिस्ट पार्टी को जाने वाला मुस्लिम वोट भी यहाँ कांग्रेस को ही जाएगा और वो निर्णायक साबित होगा, इसके अलावा 12.5 फीसद क्रिस्चियन वोट भी रोमन कैथोलिक सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका के खाते में जा सकता है, इसके अलावा हिन्दू वोट भी जीत का मार्जिन बढ़ाने में मदद कर सकते हैं

'अपनी प्राणों से प्रिय जनता को प्रणाम', विधायकी से इस्तीफा देकर भावुक हुए शिवराज

गुना: बेटे को नींद आने पर डिवाइडर से टकराई कार, दुखद हादसे में माता-पिता समेत 3 की मौत

उत्तर प्रदेश को गर्मी से कब मिलेगी राहत ? मौसम विभाग ने दी बड़ी खुशखबरी

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -