अयोध्या मामले में 'सुप्रीम' फैसले पर राहुल गाँधी ने तोड़ी चुप्पी, ट्विटर पर कही बड़ी बात

अयोध्या मामले में 'सुप्रीम' फैसले पर राहुल गाँधी ने तोड़ी चुप्पी, ट्विटर पर कही बड़ी बात

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला दे दिया है और अब देशवासियों को इसका सम्मान करते हुए परस्पर सौहार्द और सद्भाव कायम रखकर अपनी समृद्ध परंपरा का निर्वहन करना है। अयोध्या मामले में CJI रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली पांच सदस्यीय संविधान बेंच के फैसले के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ''सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मुद्दे पर अपना फैसला सुना दिया है।

उन्होंने आगे लिखा कि इस फैसले का सम्मान करते हुए हम सब को आपसी सद्भाव बरकरार रखना है। ये समय हम सभी भारतीयों के बीच बन्धुत्व, विश्वास और प्रेम का है। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि सभी पक्षों के लोगों को इस फैसले को स्वीकार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि, ''अयोध्या मामले पर भारत की सर्वोच्च अदालत ने फैसला सुना दिया है। सभी पक्षों, समुदायों और नागरिकों को इस फ़ैसले का सम्मान करते हुए हमारी सदियों से चली आ रही मेलजोल की संस्कृति को बरक़रार रखना चाहिए। हम सबको एक होकर आपसी सौहार्द और भाईचारे को मजबूत करना होगा।''

वहीं, सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील तथा कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला सबको मानना चाहिए। उन्होंने कहा कि अदालत का फैसला सबको स्वीकार होना चाहिए, किन्तु उन्होंने यह भी कहा कि आस्था के आधार पर फैसला नहीं लिया जा सकता। अदालत का फैसला देश की एकता को दर्शाता है और देश के सभी नागरिकों को इसका सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अदालत के फैसले पर कुछ लोग असहमत हो सकते हैं और लोकतांत्रिक देश में यह स्वाभाविक है, किन्तु फैसला सबको स्वीकार होना चाहिए।

सिर्फ भारत ही नहीं दुनियाभर में छाया रहा अयोध्या का फैसला, विदेशी मीडिया ने दी ये प्रतिक्रिया

पीएम मोदी ने दी मिलाद-उल-नबी की बधाई, पैगम्बर मोहम्मद का हुआ था जन्म

अपनी गलतियों के बाद भी याद किए जाते है भारत के पूर्व प्रधानमंत्री