CM कैंडिडेट पर राहुल गांधी ने साधी चुप्पी

लखनऊ : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का नाम कांग्रेस की ओर से उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में लिए जाने को लेकर स्वयं राहुल ने कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया है। इस मामले में कांगेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि जो भी लोग खबरें चलाते हैं वे ही जानें कि क्या होगा। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस द्वारा उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव की कैंपेनिंग करने को लेकर यह बात कही जा रही थी कि उत्तरप्रदेश चुनाव में लीड करने के लिए कांग्रेस को राहुल गांधी को मुख्यमंत्री केंडिडेट के तौर पर प्रोजेक्ट करना चाहिए।

यदि यह नहीं होता है तो प्रियंका गांधी और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को प्रोजेक्ट किया जा सकता है। उल्लेखनीय है कि यह सलाह प्रशांत किशोर ने दी थी। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और बसपा की प्रमुख मायावती के सामने राहुल को ही खड़ा होना चाहिए। दरअसल प्रशांत किशोर का कहना है कि यदि राहुल गांधी स्वयं मुख्यमंत्री का चेहरा बनें और कांग्रेस उत्तरप्रदेश जीत जाए तो वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए प्रगति तय होगी।

प्रशांत किशोर और उनके साथियों का मानना है कि एक बड़ा चुनाव कांग्रेस की ताकत को वापस ला सकता है। उन्होंने ब्राह्मणों को कांग्रेस में वापस लिए जाने, राजपूत के मुड़ने और मुस्लिमों को भी कांग्रेस के पाले में लेने की बात कही है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -