विदेश मंत्रालय की मंजूरी लिए बिना लंदन निकल लिए राहुल गांधी, क्या कांग्रेस नेता पर होगी कार्रवाई ?

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने इन दिनों ब्रिटेन में हैं। वह लंदन स्थित कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा था कि भारत में स्थिति सही नहीं है। भाजपा ने देश भर में केरोसिन छिड़क रखा है, बस चिंगारी दिखाने की देर है। अब इस मामले में जानकारी मिली है कि राहुल गाँधी ने बगैर राजनीतिक मंजूरी के लंदन की यात्रा की। दरअसल, सभी सांसदों को अपनी विदेश यात्राओं से पहले विदेश मंत्रालय से सियासी अनुमति लेनी होती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, राहुल गाँधी ने अपनी हालिया लंदन यात्रा से पहले विदेश मंत्रालय से राजनीतिक स्वीकृति के लिए आवेदन नहीं किया था।

उल्लेखनीय है कि सभी संसद सदस्यों को विदेश यात्रा करने से पहले विदेश मंत्रालय से सियासी मंजूरी लेना अनिवार्य है। यात्रा से कम से कम तीन हफ्ते पहले वेबसाइट पर जानकारी डालकर विदेश मंत्रालय की अनुमति लेनी होती है। मगर, राहल गाँधी ने इस प्रक्रिया का पालन नहीं किया। इसके साथ ही सभी सांसदों को विदेश मंत्रालय के जरिए विदेशी सरकारों, संस्थानों आदि से निमंत्रण प्राप्त करना होता है। अगर कोई सीधा निमंत्रण मिलता है, तो इसकी सूचना विदेश मंत्रालय को देनी होती है। इसके बाद उन्हें मंत्रालय से सियासी मंजूरी लेनी होती है। सूत्रों के अनुसार, राहुल गाँधी ने विदेश यात्रा करने से पहले विदेश मंत्रालय की अनुमति नहीं ली थी।

अपनी इस विदेश यात्रा के दौरान राहुल, कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इस दौरान उन्होंने कहा था कि भारत अच्छी स्थिति में नहीं है। भाजपा ने पूरे देश में मिट्टी का तेल फैला दिया है। आपको एक चिंगारी चाहिए और हम बड़ी मुश्किल में पड़ जाएँगे। इसे रोकना विपक्ष की जिम्मेदारी है। कांग्रेस लोगों, समुदायों, राज्यों और धर्मों को एक साथ लाती है। हमें इस तापमान को कम करने की आवश्यकता है, क्योंकि यदि यह तापमान ठंडा नहीं हुआ तो चीजें गलत हो सकती हैं। राहुल गाँधी ने विदेशी धरती पर अपने ही देश की आलोचना करते हुए कहा था कि, 'भारत ऐसा देश नहीं बन सकता जिसे बोलने की इजाजत नहीं है। प्रधानमंत्री का रवैया होना चाहिए कि ‘मैं सुनना चाहता हूँ’। मगर हमारे प्रधानमंत्री नहीं सुनते। आपके पास ऐसा देश नहीं हो सकता जिसे बोलने की इजाजत नहीं है।'

हालाँकि, ये कोई पहली दफा नहीं है जब राहुल गाँधी इस प्रकार विदेश दौरे पर गए हों। मौका चाहे नए साल का हो, संसद सत्र का हो, चुनाव का हो या फिर राहुल गाँधी के बर्थडे का, वो हर बड़े मौके पर विदेश दौरे पर निकल जाते हैं। बीते दिनों केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने वह मौके गिनाए थे, जब गाँधी परिवार के सदस्यों ने SPG का अपमान किया था। उन्होंने कहा कि 600 बार ऐसे मौके आए जब राहुल गाँधी ने ऐसा किया।

कांग्रेस से अलग होते ही कपिल सिब्बल ने सोनिया गांधी को लेकर कह डाली बड़ी बात

झीरम घाटी नक्सली हमले की जाँच में बाधा डाल रही है भाजपा: CM बघेल

योगी सरकार कल पेश करेगी अपना पहला बजट, हो सकते हैं ये बड़े ऐलान

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -