फिर उजागर हुआ राहुल का चीन प्रेम, बीजेपी ने बताया 'चाइनीज' गांधी

Aug 31 2018 03:09 PM
फिर उजागर हुआ राहुल का चीन प्रेम, बीजेपी ने बताया  'चाइनीज' गांधी

नई दिल्ली: राहुल गाँधी आज कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जा रहे हैं, कैलाश मानसरोवर जाने के लिए उन्होंने चीन से गुजरने वाला रास्ता चुना है, उनके इस कदम से एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी का चीन प्रेम उजागर हुआ है और केंद्र को उनपर हमला करने का अवसर मिल गया है. बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस पार्टी पर सवाल दागते हुए पूछा है कि आखिर राहुल को चीन से इतना प्यार क्यों है, यहीं नहीं बीजेपी ने राहुल को 'चाइनीज' गांधी तक बता डाला.

पात्रा ने कहा कि "राहुल गाँधी नेपाल के माध्यम से चीन गए हैं, चीन के प्रति राहुल को जुनून है. ऐसा क्यों है कि श्री गांधी हमेशा हर मुद्दे पर चीनी दृष्टिकोण रखते हैं, लेकिन भारतीय परिप्रेक्ष्य नहीं रखना चाहते हैं? वे चीन में किन राजनेताओं से मिलना चाहते हैं." संबित पात्रा ने उन्हें चीन का प्रवक्ता बताते हुए कहा है कि राहुल चीन का विज्ञापन क्यों करते हैं, आखिर उन्हें चीन से कैसा प्रेम है. 

चीन से की थी भारत की तुलना

इससे पहले भी राहुल गाँधी ने कहा था कि चीन हर रोज़ 50 हज़ार युवाओं को रोज़गार देता है, जबकि भारत मात्र 450 लोगों को ही रोज़गार दे पता है. राहुल गाँधी के इस बयान पर भी उनकी काफी खिंचाई हुई थी, बीजेपी ने उनसे पूछा था कि आखिर उन्हें यह जानकारी मिली कहाँ से, वे भारत में रहकर चीन का विज्ञापन क्यों कर रहे हैं ?

डोकलाम को लेकर बीजेपी ने घेरा


डोकलाम मामले पर भी राहुल गाँधी को घेरते हुए संबित पात्रा ने कहा है कि जब भारत-चीन के बीच में डोकलाम को लेकर विवाद चल रहा था, उस समय भी राहुल गाँधी बिना किसी को बताए चीन के राजदूत के साथ बैठक कर रहे थे और जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो वे इंकार करने लगे, किन्तु जब उनकी बैठक की तस्वीरें सामने आई तब राहुल ने माना कि उन्होंने चीनी राजदूत के साथ गुप्त बैठक की थी. इस पर भी भाजपा ने राहुल को घेरते हुए कहा था कि वे डोकलाम के बारे में जानकारी लेना चाहते थे तो विदेश मंत्रालय से भी ले सकते थे, लेकिन उन्हें सिर्फ चीन के नज़रिए से ताल्लुक है, भारतीय नज़रिए को वे समझना ही नहीं चाहते.

जर्मनी में डोकलाम मुद्दे पर खामोश रहे राहुल


बीजेपी ने राहुल की जर्मनी यात्रा पर भी हमला करते हुए कहा कि हाल ही में जब राहुल गाँधी जर्मनी की यात्रा पर गए थे, तब उनसे डोकलाम के बारे में पूछा गया था, लेकिन उन्होंने यह करते हुए मना कर दिया था कि उन्हें डोकलाम के बारे में कोई जानकारी नहीं है. बीजेपी ने राहुल पर प्रहार करते हुए कहा कि जब आपको जानकारी नहीं है तो फिर आप संसद में डोकलाम पर किस तरह बोल रहे थे. 

राहुल ने उछाला था राफेल मुद्दा
आपको बता दें कि आगामी चुनावों के चलते राहुल गाँधी ने मोदी सरकार को घेरने के लिए राफेल मुद्दे को जमकर उछाला था, साथ ही कल राहुल ने नोटबंदी को लेकर भी मोदी सरकार पर निशाना साधा था उन्होने कहा था कि 'नोटबंदी कोई गलती नहीं थी, बल्कि जानबूझकर यह आम  जनता के पैरों पर कुल्हाड़ी मारी गई, प्रधानमंत्री जी ने कोई गलती नहीं की, प्रधानमंत्री जी ने यह जानबूझकर किया है. जिसके बाद भाजपा ने पलटवार करते हुए राहुल पर कई हमले किए थे, जिसे राहुल गांधी के सेल्फ-गोल भी कहे जा सकते हैं. लंदन में राहुल गाँधी भारत में आईएसआईएस की उत्पत्ति वाले बयान पर आलोचना झेल चुके हैं, 1984 दंगों पर, आरएसएस की तुलना मुस्लिम ब्रदरहुड से करने पर भी राहुल गाँधी को तीखे प्रहारों का सामना करना पड़ा था. 

खबरें और भी:-

दिल्ली में 2+2 वार्ता से पहले भारत को झटका, अमेरिका बोला एच-1बी वीजा की प्रक्रिया में नहीं होगा बदलाव

अधिकारियों को फिजूलखर्ची ना करने का भाषण देने वाले इमरान खुद कर रहे फिजूलखर्ची

आईआरसीटीसी घोटाला : लालू यादव के खिलाफ वारंट जारी, राबड़ी और तेजस्वी को जमानत

 

 


 

?