पंजाब में हुई हिंसा के लिए अकाली दल जिम्मेदार

फरीदकोट : पंजाब में अभी भी पवित्र श्री गुरूग्रंथ साहिब की बेअदबी को लेकर विवाद जारी है। इस मामले में तरनतारन में गुरूवार को घटना हुई। दरअसल यहां से भी सिख धर्मावलंबियों ने गुरूग्रंथ साहिब के फटे पन्ने बरामद किए। इस दौरान क्षेत्र में तनाव फैल गया। एसपी जगमोहन सिंह द्वारा कहा गया कि झाडि़यों में एक पोलिथीन में गुरूग्रंथ साहिब के फटे पन्ने थे। यह घटना क्षेत्र के मल्लिया गांव में हुई।

मिली जानकारी के अनुसार इस घटना की जानकारी लगते ही सिख गांव में एकत्रित हो गए। जिसके कारण क्षेत्र में तनाव व्याप्त हो गया। हालांकि अब स्थिति नियंत्रण में बताई जा रही है। मामले की जांच प्रारंभ कर दी गई है। सिख समुदाय के पवित्र ग्रंथ श्री गुरूग्रंथ साहिब की बेअदबी होने का यह मामला सामने आने के बाद फिर से सिख भड़क उठे।

इस मामले में यह भी कहा गया कि सिखों द्वारा इस घटना की निंदा की गई है। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का गुरूवार को पंजाब का दौरा था। दरअसल बेहबालकलां गांव में प्रदर्शनकारियों द्वारा गोलीबारी की गई थी। जिसमें सिख परिवार के सदस्यों की मौत हो गई थी। राहुल इन परिवार के सदस्यों से मिले और उनका दर्द जाना। परिवार के सदस्यों से भेंट करने के बाद उन्होंने सत्तारूढ़ शिरोमणि अकाली दल का विरोध किया।

राहुल का कहना था कि पंजाब में आम लोगों का कोई भविष्य नहीं है। केवल अकाली दल के नेताओं की ही मौज है। उनका कहना था कि निर्दोषों को झूठे मुकदमों में फंसा दिया गया या फिर वे मारे गए। राहुल ब्रगारी गुरूद्वारे में भी पहुंचे। यहां उन्होंने अरदास की। शुक्रवार को वे भटिंडा पहुंचेंगे और वहां किसानों से भेंट करेंगे। इस दौरान वे कर्ज में डूबे किसानों से भेंट करने के ही साथ वर्ष 1984 के दंगा प्रभावितों से भी मिलेंगे। राहुल ने पंजाब में पार्टी में हो रहे बिखराव पर भी चिंता जताई। दूसरी ओर भाजपा द्वारा सांसद राहुल गांधी के दौरे को पाॅलिटिकल टूरिज़्म कहा गया। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -