'राहुल गांधी से वायनाड में रहने की उम्मीद नहीं की जा सकती..', ऐसा क्यों बोले केरल कांग्रेस चीफ ?

'राहुल गांधी से वायनाड में रहने की उम्मीद नहीं की जा सकती..', ऐसा क्यों बोले केरल कांग्रेस चीफ ?
Share:

कोच्ची: कांग्रेस नेता राहुल गांधी 2024 के लोकसभा चुनाव में दो सीटों से चुने गए हैं- केरल में वायनाड और उत्तर प्रदेश में रायबरेली। हालांकि, आने वाले दिनों में उन्हें एक सीट छोड़नी पड़ेगी। अब केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी (KPCC) के प्रमुख के सुधाकरन ने बड़ा संकेत देते हुए बताया है कि राहुल गांधी वायनाड सीट छोड़ सकते हैं। 

एक जनसभा को संबोधित करते हुए सुधाकरन ने संकेत दिया कि राहुल गांधी रायबरेली सीट बरकरार रख सकते हैं। उन्होंने कहा कि केरल के लोगों को "दुखी नहीं होना चाहिए" क्योंकि राहुल गांधी से वायनाड में "रहने की उम्मीद नहीं की जा सकती"। उन्होंने कहा कि, "हमें दुखी नहीं होना चाहिए क्योंकि राहुल गांधी जो देश का नेतृत्व करने वाले हैं, उनसे वायनाड में रहने की उम्मीद नहीं की जा सकती। इसलिए, हमें दुखी नहीं होना चाहिए। सभी को यह समझना चाहिए और उन्हें अपनी शुभकामनाएं और समर्थन देना चाहिए।" सुधाकरन ने राहुल गांधी की मौजूदगी में ये बात कही। 

इससे पहले मलप्पुरम के एडवन्ना में एक जनसभा के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि वह इस दुविधा में हैं कि उन्हें कौन सी सीट छोड़नी चाहिए। उन्होंने कहा कि वह जिस भी सीट को बरकरार रखने का फैसला करेंगे, दोनों निर्वाचन क्षेत्र इस फैसले से खुश होंगे। कांग्रेस नेता ने कहा कि, "मेरे सामने दुविधा है कि मैं वायनाड का सांसद बनूं या रायबरेली का। मैं आपसे यही वादा करता हूं कि वायनाड और रायबरेली दोनों ही मेरे फैसले से खुश होंगे।" जनप्रतिनिधित्व कानून के मुताबिक, एक उम्मीदवार दो लोकसभा क्षेत्रों से चुनाव लड़ सकता है, लेकिन एक बार में केवल एक ही सीट पर रह सकता है। 

नियमों के मुताबिक, उम्मीदवार के पास नतीजों की घोषणा की तारीख से दो हफ्ते का समय होता है कि वह तय करे कि वह कौन सी सीट बरकरार रखना चाहता है। लोकसभा चुनाव के नतीजे 4 जून को घोषित किए गए थे, जिसका मतलब है कि राहुल गांधी को 18 जून यानी अगले मंगलवार से पहले अपना अंतिम फैसला सुनाना होगा। 2019 के आम चुनावों में राहुल गांधी ने अमेठी और वायनाड सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन वायनाड से हार गए थे। 2024 के चुनावों में एक बार फिर दो सीटों पर चुनाव लड़ते हुए, गांधी ने वायनाड और रायबरेली दोनों जगहों से भारी अंतर से जीत हासिल की। ​​हालांकि, वायनाड में जीत का अंतर 2019 की तुलना में कम था।

कुवैत अग्निकांड के पीड़ितों से मिलने अस्पताल पहुंचे मंत्री कीर्तिवर्धन सिंह, लिया इलाज का जायजा

सियासी चक्रव्यूह में पिसती आम जनता, देखिए दिल्ली जल संकट को लेकर कैसे हो रही राजनीति !

यूपी पुलिस ने सुलझाई इमाम फजलुर्रहमान की हत्या की गुत्थी, शामली में मिली थी सिर कटी लाश

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -