अब सूट-बूट वालों के साथ सरकार चलाते हैं PM मोदी : राहुल गांधी

पटना : पश्चिमी चंपारण से आज अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी अपने चुनावी समर का आगाज़ करने जा रही है। जनता परिवार महागठबंधन के प्रमुख दल के तौर पर कांग्रेस चुनाव अभियान के दौरान प्रचार-प्रसार करने में लगी है। इस दौरान यह बात सामने आई है कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज चंपारण पहुंचे और उन्होंने जनता परिवार महागठबंधन के बैनर तले अपने चुनावी अभियान का प्रारंभ किया। इस दौरान कहा गया कि राहुल के समर्थन में व्यापक जनसमुदाय उमड़ा। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि संसद में सूट-बूट की सरकार पर हमने सवाल किए।

इस दौरान हमने कहा कि यह गरीबों की सरकार नहीं है। यदि आप कांग्रेस या महागठबंधन परिवार की ओर देखें तो आपको कोई सूट-बूट में नहीं दिखाई देगा। बड़े ही मनोरंजक अंदाज़ में कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि किसान को अपनी बात पता होती है मजदूर को अपनी बात होती है। सभी के पास अपना ज्ञान होता है। लोग कहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले चाय बेचते थे लेकिन अब उन्हें देखें तो उनका ओहदा अलग है।

एक समारोह का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार की बैठकों में जिस तरह की चर्चा चलती हैं उससे नहीं लगता कि सरकार विकास कर रही है। जिस वर्ग का हम विकास करना चाहते हैं उस वर्ग से चर्चा करें और उसकी बैठक लें तो उस वर्ग का विकास होगा। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले चाय वाले थे लेकिन जब प्रधानमंत्री बने तो महंगा सूट पहना लेकिन एक ओर गांधी जी थे जो गरीबों के साथ कदम मिलाकर चलते थे। मगर मोदी केवल सूट-बूट वालों से मिलते हैं और जनता के सामने आकर कहते हैं कि मैं और मेरे सूट वाले दोस्त गरीब का विकास करेंगे। हर भारत वासी के बैंक अकाउंट में 15 लाख जमा करेंगे, महंगाई को कम करेंगे। मगर एक वर्ष बीत गया मगर किसी को 15 लाख मिला, महंगाई कम हुई। नहीं हुुई।

उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे समय बदला पीएम मोदी भी बदलते गए। उन्होंने भूमि अधिग्रहण बिल को लेकर कहा कि क्या जमीन अधिग्रहण बिल आना चाहिए। जी बिल्कुल नहीं आना चाहिए। इस दौरान जब किसान से पूछा गया तो किसानों ने कहा कि भूमि अधिग्रहण बिल नहीं आना चाहिए। आज जमीन सोना बन रही है। जब महात्मा गांधी चंपारण आए थे तो अंग्रेजों ने घुटने टेक दिए थे। अंग्रेज किसानों की जमीन छिनते थे। मोदी सरकार भी किसानों से जमीन छिनने का कार्य कर रही है।

सरकार मेक इन इंडिया की बात कर रही है। इसमें कहा जा रहा है कि 2 करोड़ रोजगार हर साल लाया जाएगा लेकिन एक साल के अंतराल में रोजगार कहां मिला। राजस्थान में निःशुल्क दवाई वितरण के कांग्रेस के कार्य को बंद कर दिया गया। सरकार का कार्य है स्वास्थ्य और शिक्षा देना लेकिन केंद्र सरकार चाहती है कि सरकार यह कार्य नहीं करे। ब्यूरोक्रेट्स ने पूरे तंत्र को ही बेच दिया। मोदी की चुने हुए सूट-बूट के दोस्त हैं उनसे कांग्रेस और जनता परिवार आम जनता को बचाना चाहता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार को समाप्त करने का झूठा दावा किया है। हमने महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की बात की।

इस दौरान राहुल गांधी ने घोषणा की कि युवाओं को शिक्षा के लिए 4 लाख का ऋण दिया जाएगा। उन्होंने महात्मा गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का उल्लेख करते हुए कहा कि ये आपकी तरफ चले थे इन्होंने आपकी बात की है। मगर RSS द्वारा यह विचार किया जाता है कि जो पढ़े-लिखे नहीं होते वे कुछ नहीं कर सकते हैं। भाजपा सरकार ने एक स्थान पर यह निर्णय सुना दिया कि जो पढ़े लिखे नहीं हैं वे चुनाव लड़ नहीं सकते हैं। मगर कांग्रेस इस तरह का कुछ निर्णय नहीं लेती। कांग्रेस गरीबों को अपनाती है। उन्होंने कहा कि यदि हम बिहार में आए तो रोजगार लाऐंगे।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -