'राहुल बाबा और उनकी बहन छुट्टियां मनाने शिमला आ गए लेकिन..', अमित शाह ने बोला हमला
'राहुल बाबा और उनकी बहन छुट्टियां मनाने शिमला आ गए लेकिन..', अमित शाह ने बोला हमला
Share:

शिमला: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज शनिवार (25 मई) को कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी छुट्टियां मनाने शिमला आ गए, लेकिन अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में निमंत्रण मिलने के बावजूद नहीं गए, क्योंकि उन्हें अपने वोट बैंक का डर है। आज शिमला में भाजपा प्रत्याशी अनुराग ठाकुर के समर्थन में एक रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी जैसा कोई व्यक्ति है, जिसने 23 साल से छुट्टी नहीं ली है। 

अमित शाह ने आगे कहा कि, "राहुल बाबा और उनकी बहन छुट्टियों के लिए शिमला आए थे, लेकिन वे राम लला की प्राण प्रतिष्ठा में नहीं गए। वे नहीं गए क्योंकि उन्हें अपने वोट बैंक का डर था। इस चुनाव में एक तरफ राहुल बाबा हैं, जो हर छह महीने में छुट्टियां मनाते हैं और दूसरी तरफ नरेंद्र मोदी जी हैं जो 23 साल से दिवाली पर भी बिना छुट्टी लिए सीमा पर सेना के जवानों के साथ त्यौहार मनाते हैं।'' उन्होंने कहा, "हम 400 पार कर रहे हैं, लेकिन राहुल बाबा एक बार फिर 40 से नीचे आ रहे हैं।" आगे गृह मंत्री ने कहा कि इंडिया ब्लॉक के पास पीएम पद के लिए कोई चेहरा नहीं है।  

गृह मंत्री ने कहा कि, "इंडी गठबंधन के पास प्रधानमंत्री पद के लिए कोई उम्मीदवार नहीं है। एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि आपका प्रधानमंत्री कौन बनेगा। तो उन्होंने जवाब दिया कि एक-एक व्यक्ति एक-एक साल के लिए बारी-बारी से प्रधानमंत्री बनेगा। राहुल बाबा, यह कोई किराने की दूकान नहीं है, यह 140 करोड़ लोगों का देश है।” शाह ने इस बात पर भी जोर दिया कि पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव के पांच चरणों में 310 सीटों का आंकड़ा पार कर लिया है। उन्होंने कहा कि, "चुनाव के पांच चरण पूरे हो चुके हैं, आज छठे चरण का मतदान चल रहा है। पांच चरणों में पीएम मोदी 310 पार कर चुके हैं। छठे और सातवें चरण में 400 पार कर पीएम मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाना है। जो लोग इन चरणों में शामिल हैं, उनपर 400 के पार पहुंचाने की जिम्मेदारी है।”

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर की तारीफ करते हुए शाह ने कहा कि लोग दीपक लेकर भी ढूंढ़ें, लेकिन ठाकुर जैसा सांसद कोई नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि, "मैं अनुराग को लंबे समय से जानता हूं। जब हम साथ थे तब मैं युवा मोर्चा का अध्यक्ष था। फिर उन्होंने क्रिकेट एसोसिएशन में काम किया और अब मोदी जी की कैबिनेट में काम कर रहे हैं। अगर आप दीपक लेकर भी ढूंढेंगे तो भी ऐसे सांसद नहीं मिलेंगे। उन्होंने न केवल अपने क्षेत्र की चिंता की, बल्कि देश भर में युवाओं को भाजपा और उसकी विचारधारा के साथ एकजुट करने के लिए भी काम किया।'' 

मतदान के बीच हरियाणा के विधायक राकेश दौलताबाद का निधन, हार्ट अटैक से गई जान

कर्नाटक: थाने लाने के 6 मिनट के अंदर हुई आरोपी आदिल की मौत ! भीड़ ने फूंके पुलिस के वाहन, 11 जवान घायल

महिला टीचर की आवाज में बात कर छात्रों को मिलने बुलाया, फिर 7 छात्राओं से की दरिंदगी

 

रिलेटेड टॉपिक्स