रफ़्तार कुछ जिंदगी कि यूँ बनाये

रफ़्तार कुछ जिंदगी कि यूँ बनाये रख ग़ालिब ,

कि दुश्मन भले ही आगे निकल जाए, पर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -