यहाँ जानिए राधा अष्टमी व्रत का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

आज राधा अष्टमी का व्रत है. ऐसे में आज के दिन श्री राधा रानी का पूजन होता है. हिंदू पंचांग के अनुसार, भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को राधा अष्टमी व्रत रखा जाता है। आपको बता दें कि इस साल राधा अष्टमी 14 सितंबर, मंगलवार को मनाई जा रही है। कहा जाता है राधा रानी की पूजा के बिना भगवान श्रीकृष्ण की पूजा अधूरी मानी जाती है। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं राधा अष्टमी व्रत की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त.

राधा अष्टमी 2021 शुभ मुहूर्त- राधा अष्टमी तिथि 13 सितंबर दोपहर 3 बजकर 10 मिनट से शुरू होगी, जो कि 14 सितंबर की दोपहर 1 बजकर 9 मिनट तक रहेगी।

राधा अष्टमी व्रत की पूजा विधि- आज सुबह स्नानादि से निवृत्त हो जाएं। उसके बाद मंडप के नीचे मंडल बनाकर उसके मध्यभाग में मिट्टी या तांबे का कलश स्थापित करें। अब एक कलश पर तांबे का पात्र रखें। इसके बाद इस पात्र पर वस्त्राभूषण से सुसज्जित राधाजी की सोने (संभव हो तो) की मूर्ति स्थापित करें। अब राधाजी का षोडशोपचार से पूजन करें। इस बात का खास ध्यान रहे कि पूजा का समय ठीक मध्याह्न का होना चाहिए। अब पूजन के बाद पूरा उपवास करें और एक समय भोजन करें। वहीँ उपवास के दूसरे दिन श्रद्धानुसार सुहागिन स्त्रियों तथा ब्राह्मणों को भोजन कराएं व उन्हें दक्षिणा दें। कहा जाता है इस तरह से श्री राधा रानी का पूजन करने से श्री कृष्णा खुश होते हैं और मनचाहा आशीर्वाद भी प्रदान करते हैं।

प्यासे कौवे की कहानी हुई सच, वीडियो वायरल

पंजाब: CM कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों को दी यह सलाह

तमिलनाडु में नहीं होगी NEET परीक्षा, 12वीं के नंबर पर मिलेगा प्रवेश

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -