पेयजल समस्या निराकरण के लिये ड्यूटी लगाई

Apr 15 2015 01:44 AM
पेयजल समस्या निराकरण के लिये ड्यूटी लगाई
style="font-family: sans-serif; font-size: 16px; line-height: 20.7999992370605px; text-align: justify; background-color: rgb(249, 249, 249);">मध्यप्रदेश/उज्जैन : लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा ग्रीष्मकाल में उज्जैन जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल समस्या के त्वरित निराकरण के लिये सहायक यंत्री एवं उप यंत्रियों की ड्यूटी लगा दी गई है। ग्रामीणजन उक्त इंजीनियरों से सम्पर्क कर अपनी समस्याएं इन्हें मोबाईल फोन पर नोट करवा सकते हैं। जिला स्तर पर कंट्रोल रूम भी स्थापित कर दिया गया है, इसका नम्बर 0734-2551567 है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी ग्रामीण के कार्यपालन यंत्री सुनील उदिया ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में विकास खण्डवार सहायक यंत्री व उप यंत्री की ड्यूटी लगा दी गई है।
 
उज्जैन विकास खण्ड में एस.के.धारीवाल, राजेश अंधारे, नरेश कुवाल, एम.के.सोनी  की ड्यूटी लगाई गई है जबकि  घट्टिया विकास खण्ड में अमित सिंह, बड़नगर में विनोद बागड़ी, खाचरौद में आर.के.छानीवाल, गरिमा भटनागर, जे.सी.जोशी उन्हेल,  एन.सलीम नागदा, तराना विकास खण्ड में अजय गुप्ता, आर.एस.जाटवा, एम.वी.टिकलकर  तथा महिदपुर विकास खण्ड में सीताराम जांगड़े  तथा राजीव त्रिपाठी की ड्यूटी लगाई गई है। 
 
महाकाल मंदिर के लिये संभागायुक्त पुरस्कृत
 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश को पूरी तरह डिजिटल प्रदेश बनाया जायेगा। मुख्यमंत्री गत दिवस भोपाल में ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में नवाचार और उत्कृष्टता के लिये विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के ई-गवर्नेंस पुरस्कार समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने नगरीय सेवाओं के प्रदाय को त्वरित और प्रभावी बनाने के लिये सूचना प्रौद्योगिकी का अधिकाधिक उपयोग और नवाचारी प्रयोग करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि आईटी का उपयोग कर लोक सेवाओं के प्रदाय में क्रान्ति की जा सकती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार हर क्षेत्र में प्रदेश को देश का उत्कृष्ट प्रदेश बनाने के लिये संकल्पित है। पुरस्कार समारोह में मुख्यमंत्री ने लोक सेवा प्रदाय में सुधार के लिये श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध सिस्टम के लिये उज्जैन के तत्कालीन संभागायुक्त अरूण पाण्डेय को पुरस्कृत किया।