इस प्रसिद्द मंदिर में नहीं की जाती भगवान पूजा

हर जगह की भगवान् ही पूजा पाठ की जाती हैम ये आम बात है और हर कोई करता भी है. लेकिन एक ऐसा मंदिर है जहां पर भगवान की पूजा नहीं की जाती. ऐसे मंदिर के  बारे में आप नहीं जानते होंगे, लेकिन आज हम आपको ऐसे ही मंदिर से अवगत कराने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आप भी हैरान रह जायेंगे. वैसे आपने इस मंदिर के बारे में सुना ही होगा. तो बता दें, आप यह जानकर हैरान जरूर हुए होंगे लेकिन पुरी में मौजूद भगवान जगन्नाथ की पूजा नहीं की जाती है. यही वो मंदिर है जहां पर भगवान की पूजा नहीं की जाती.
 
असल में ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु जब चारों धामों पर बसे अपने धामों की यात्रा पर गए थे तब उन्होंने हिमालय की ऊंची चोटियों पर बने अपने धाम बद्रीनाथ में स्नान किया था. इसके बाद पश्चिम में गुजरात के द्वारिका में वस्त्र धारण किये थे फिर वह पुरी में निवास करने लगे पर जगन्नाथ बने. उन्हें जगन्नाथ के रूप में आज भी माना जाता है. इसी नाम से वो मंदिर प्रसिद्द भी है. 

आपको बता दें, जगन्नाथ धाम चार धामों में से एक है, इस स्थान पर जगन्नाथ के बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के साथ विराजमान है. भगवान कृष्ण ही जगन्नाथ का रूप है. पूरी में जगन्नाथ के साथ उनके भाई बलभद्र (बलराम) और बहन सुभद्रा की मूर्तियां काष्ठ की बनी हुई हैं जिसके चलते यहां प्रत्येक 12 साल में सिर्फ एक बार प्रतिमा का नया कलेवर किया जाता है. इन मूर्तियों का निर्माण किया जाता है लेकिन उनका आकार और रूप वैसा का वैसा ही होता है. ऐसा कहा गया है कि इन मूर्तियों की पूजा नहीं होती केवल यंहा मूर्तियां दर्शन के लिए रखी गई है. 

इस मंदिर में आकर ठीक हो जाता है लकवे का मरीज, ऐसा होता है चमत्कार

यहां कंपनी देती है कर्मचारियों को प्राइवेट जेट की सुविधा

यहां जॉब के लिए ली जाती है सिर्फ खूबसूरत लड़कियां, ऐसे हैं अजीब नियम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -