पायरेटेड मूवी तैयार करने वाले गिरोह का हुआ पर्दाफाश

फिल्म उद्योग को करोड़ों का चूना लगाने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश हुआ है, हाल ही में जालसाजी के एक मामले में पुलिस ने पूना से जालसाज को दबोचा और जिससे पूछताछ में पायरेसी करने वाले अंतर्राष्ट्रीय गिरोह की जानकारी मिली. पूछताछ के बाद पुलिस ने 4 लोगों को दबोचा है, बाकी 9 आरोपी अभी फरार हैं. आपको बता दे की फिल्म की पायरेटेड मूवी तैयार करने वाला यह गिरोह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय था. उक्त जानकारी एक प्रेस काॅन्फ्रेंस में एसपी डाॅ. आशीष ने दी. इस संबंध में बताया गया कि ओमती थाने में अंकित वर्मा ने एक शिकायत देकर जानकारी दी थी की प्रियांक परदेशी जो अशोक विहार काॅलोनी शंकर शाह नगर रामपुर में रहता है और वर्तमान में पूना में रह रहा है, उसने नौकरी लगवाने के नाम पर उससे 18 लाख रुपये लेकर धोखाधड़ी की है.

उक्त मामले में प्रकरण दर्ज कर पुलिस टीम ने पूना से प्रियांक परदेशी को पकड़ा. और उसके घर से मिले कम्प्यूटर की जांच की गई और सीपीयू सर्च करने पर सर्वर तथा मोबाइल में बजरंगी भाईजान, बाहुबली जैसे बड़े बैनरों सहित कुल 1243 फिल्में एवं वीडियो लोड पाए गए. जांच में पता चला कि प्रियंक ने स्वयं के द्वारा निर्मित टेली टोरेंस नाम की वेबसाइट द्वारा इंटरनेट पर फिल्में लोड की हैं, साथ ही स्वयं उसके द्वारा निर्देशित फिल्म भी अपलोड की गई थी. पायरेसी के बड़े कारोबार का पर्दाफाश करने वाली टीम में एएसपी जीपी पाराशर, आशीष खरे, सीएसपी अजीम खान, टीआई इंद्रमणि पटेल व थाने के स्टाफ की भूमिका काफी सराहनीय रही.

एसपी ने टीम को 30 हजार के नकद पुरस्कार से पुरस्कृत करने की घोषणा भी की है. जांच में पता चला कि दिल्ली का राहुल मेहता एवं गाजियाबाद निवासी टोनी पिक्चर हाॅल मल्टी प्लैक्स से मूवियोंं को शूट करते थे, फिर पायरेटेड मूवी तैयार कर देश के प्रमुख शहरों के अलावा आॅस्ट्रेलिया व फ्रांस जैसे बड़े देशो में भी भेज देते थे. इसी तरह दिलीप बुधलानी ग्वालियर, अमन खान भोपाल, विक्रमजीत सिंह पंजाब, आदित्यराज नई दिल्ली, फैजल नई दिल्ली, लिंगा राजेन्द्र चैन्नई , खान साहब फ्रांस खुर्रम आॅस्ट्रेलिया द्वारा भी पायरेटेड मूवी तैयार कर देश-विदेश में बेची जाती थी. सभी के खिलाफ काॅपी राइट एक्ट व अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है.

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -