शहीद राहुल के परिवार में फैला शोक का साया, आज मिलेगा जवान का पार्थिव शरीर

शहीद राहुल के परिवार में फैला शोक का साया, आज मिलेगा जवान का पार्थिव शरीर

चंपावत: बीते मंगलवार यानी 21 जनवरी 2020 को दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपोरा में आतंकियों के साथ मुकाबला करते वक़्त शहीद हुए चंपावत के बेटे शहीद राहुल का शव आज उत्तराखंड आने का अनुमान जताया जा रहा है. जंहा हालांकि प्रशासन अभी इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है, लेकिन सेना के सूत्रों के अनुसार दोपहर तीन बजे तक शहीद का पार्थिव शरीर चंपावत में उनके घर पर लाया जा सकता है. 

वहीं यह भी कहा जा रहा है शहीद राहुल रैंसवाल (25) के पिता वीरेंद्र सिंह रैंसवाल इस वक्त पत्नी हरू देवी के साथ चंपावत के कनलगांव में रहते हैं. शहादत की खबर से परिवार में कोहराम मचा हुआ है. पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है. पड़ोसी शहीद के परिजनों को ढाढस बंधा रहे हैं. जंहा  2012 में फौज में हुए थे भर्ती राहुल रैंसवाल 2012 में फौज में भर्ती हुआ था. लेकिन शहीद का बड़ा भाई राजेश रैंसवाल भी 2009 से फौज में है और इस वक्त 15 कुमाऊं में लखनऊ में तैनात है. राहुल के दादा भी फौज में ही थे. अपर जिलाधिकारी टीएस मर्तोलिया ने बताया कि शहीद राहुल रैंसवाल का अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया जाएगा. 

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि बीते मंगलवार यानी 21 जनवरी 2020 को ख्रीव के जंतरंग इलाके में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के 2 से 3 आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी. इस आधार पर सेना की 50 राष्ट्रीय राइफ ल्स (आरआर), सीआरपीएफ  और एसओजी के जवानों ने सुबह करीब 11 बजे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान जारी किया गया था. घेरा सख्त होने पर वहां एक मकान में छिपे आतंकियों ने जवानों पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाईं, तो सुरक्षा बलों ने भी जवाबी फायरिंग की. आतंकियों के हमले में 18 कुमाऊं (अभी 50 आरआर) के जवान राहुल रैंसवाल की  शहादत हो गई.

दर्दनाक: यूपी के घने कोहरे में घूमने निकला परिवार, हुआ हादसे का शिकार

आंध्र प्रदेश विधानसभा में विधायकों ने लगाए जय अमरावती के नारे, इन जगहों पर मचा हंगमा

भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने कड़े शब्दों में बोला, भारत में 2 करोड़ बांग्‍लादेशी घुसपैठिए...